सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

धन संपत्ति के मामले में आपकी सोच...?

मैंने अपने कॉलेज के वर्ष लॉस एन्जेलस के एक बढ़िया होटल में सेवक के रूप में बिताये। वहाँ एक तकनीकी कार्यकारी अतिथि के रूप में अक्सर आया करता था। वह काफ़ी प्रतिभावान था, उसने लगभग 20 वर्ष से कुछ ही अधिक की आयु में वाई- फ़ाई का एक मुख्य घटक डिज़ाइन कर पेटेंट किया था। वह कई कंपनियां शुरु करके बेच चुका था और बेतहाशा कामयाब था। धन संपत्ति के साथ उसका जो संबंध था, उसे मैं असुरक्षा और बचकानी मूर्खता का मेल कहूँगा। वह सौ डॉलर के नोटों की कई इंच मोटी गड्डी साथ लेकर घूमता था, जिसे वह हर किसी को दिखाता था, फिर चाहे वे देखना चाहते हों या नहीं। वह बिना किसी संदर्भ के अपनी धन सम्पदा की खुलकर डींग मारता, ख़ासकर जब वह नशे में धुत होता। एक दिन उसने मेरे एक सहकर्मी को कई हज़ार डॉलर की रकम दी और कहा, "गली में जो ज़वाहरात की दुकान है, वहाँ जाओ और 1000 डॉलर के कुछ सोने के सिक्के लेकर आओ।" एक घंटे बाद, हाथ में सोने के सिक्के लिये, वह कार्यकारी और उसके दोस्त एक डॉक के चारों तरफ़ इकट्ठा हो गये जो प्रशांत महासागर के सामने था। फिर उन्होंने उन सिक्कों को पानी में फेंकना शुरू कर दिया। वे उन सिक्कों को

दौलत मनुष्य की सोचने की क्षमता है

एक बार मैंने एक एक्ज़ीक्यूटिव बोर्डरूम में सबसे अमीर व्यक्तियों में से एक को ऐसी बात कहते सुना, जिसे मैं कभी नहीं भूला सका। उन्होंने कहा था, “मुझे ऐसा लगता है कि सत्यनिष्ठा दरअसल अपने आप में कोई आदर्श नहीं है, बल्कि यह तो बस वह आदर्श है, जो बाक़ी सभी आदर्शों की गारंटी देती है।”

जब भी मैं कोई रणनीतिक नियोजन सत्र आयोजित करता हूँ, तो सभी एक्ज़ीक्यूटिव जिस पहले आदर्श पर एकमत होते हैं, वह है सत्यनिष्ठा या ईमानदारी। लीडर जानते हैं कि सत्यनिष्ठा, विश्वास और विश्वसनीयता ही नेतृत्व की बुनियाद हैं। लीडर जिसमें विश्वास करते हैं, उसकी पैरवी के लिए खड़े होते हैं।

जॉन हंट्समैन सीनियर एक अरबपति थे, जिन्होंने शून्य से केमिकल कंपनी शुरू की और उसे 12 अरब डॉलर की कंपनी में बदल दिया। उनकी पुस्तक विनर्स नेवर चीट उनके खुद के अनुभव से ली गई कहानियों से भरी हैं, जिसमें उन्होंने अपने सिद्धांतों से कभी समझौता नहीं किया। 

जॉन हट्समैन सीनियर कहते थे कि सत्यनिष्ठा की बदौलत ही वे इतने सफल हुए। वे लिखते हैं, "व्यवसाय या जीवन के खेल में नैतिकता का कोई शॉर्टकट नहीं होता। बुनियादी तौर पर तीन तरह के लोग होते हैं, असफल, अल्पकालीन सफल और वे जो सफल बनते हैं व बने रहते हैं। फर्क चरित्र का होता है।” 

अस्थायी विजेताओं के कई उदाहरण हैं, जिन्होंने धोखा देकर सफलता हासिल की थी। कुछ वर्षों तक एनरॉन को अमेरिका की सबसे नवाचारी और सबसे ज्यादा जोखिम उठाने वाली कंपनियों में गिना जाता था। कंपनी के सीईओ अमेरिका के सबसे महत्त्वपूर्ण लोगों को जानते थे, जिनमें अमेरिका के राष्ट्रपति भी शामिल थे। 

बात बस यह थी कि एनरॉन की सफलता झूठ की बुनियाद पर टिकी थी और जो 'विजेता' कंपनी का नेतृत्व कर रहे थे, वे सत्यनिष्ठा के अभाव की मिसाल थे। आपने संभवतः एनरॉन के सीईओ केनेथ ले और सीओओ जेफ्री स्किलिंग के बारे में सुना होगा। वे कई महीनों तक टीवी और अख़बार की सुर्ख़ियों में रहे थे।

जबकि जॉन हंट्समैन सीनियर (2012 में अमेरिका में राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनने के दावेदार के पिता ) चकाचौंध से दूर अपनी अरबों डॉलर की कंपनी चलाते रहे। हो सकता है कि सत्यनिष्ठा वाले लीडर सबसे मशहूर या चकाचौंध वाले लीडर ना हों, लेकिन उन्हें परवाह भी नहीं होती। सत्यनिष्ठा का मतलब है सही चीज़ करना, क्योंकि यह सही चीज़ है और यही सफलता दिलाती है।

लीडर वादे करने में सतर्क रहते हैं, अनिच्छुक भी रहते हैं, लेकिन एक बार जब वे कोई वादा कर लेते हैं, तो वे बिना चूके उसे पूरा करते हैं और वे हमेशा सच बोलते हैं। जैक वेल्च इसे 'निष्कपटता' कहते हैं। वे मानते हैं कि अगर आप सच्चाई से घबराते हैं, तो आपमें प्रभावी लीडर बनने का गुर्दा नहीं है। आप खुद को जीहुजूरी करने वाले लोगों से घेर लेंगे, जो सच्चाई बताने के बजाय वही कहेंगे, जो आप सुनना चाहते हैं।
 
सत्यनिष्ठा वाला लीडर सच्चाई का सामना करने से नहीं घबराता है। जैक वेल्च इसे वास्तविकता का सिद्धांत कहते हैं “संसार को उस तरह देखना जैसा यह सचमुच है, वैसा नहीं जैसा आप इसे देखना चाहते हैं।” यह शायद नेतृत्व का सबसे अहम सिद्धांत है और सत्यनिष्ठा पर निर्भर है, क्योंकि इसमें सत्य और ईमानदारी की ज़रूरत होती है। कई कंपनियाँ और संगठन इसलिए असफल हो जाते हैं, क्योंकि वे वास्तविकता के सिद्धांत पर नहीं चलते हैं।

सत्यनिष्ठा का मतलब है सच्चाई बताना, भले ही सच्चाई अप्रिय हो। दूसरों को धोखा देने के बजाय ईमानदार होना बेहतर है, क्योंकि तब आप शायद ख़ुद को भी धोखा दे रहे होते हैं ।

लीडर्स को आत्मविश्वासी तो होना चाहिए, लेकिन उन्हें अपने मन में यह विचार भी रखना चाहिए कि वे गलत भी हो सकते हैं। कई लीडर अंततः सिर्फ इसलिए असफल हो जाते हैं, क्योंकि वे अपनी मान्यताओं या निष्कर्षों पर प्रश्न ही नहीं करते हैं। एलेक मैकेंजी ने एक बार लिखा था, “हर असफलता की जड़ में गलत धारणाएँ होती हैं।”

आत्मविश्वासी होने और अंधे होने के बीच फ़र्क होता है। आज के तीव्र परिवर्तन वाले संसार में एक संभावना यह है कि आप आंशिक रूप से या पूरी तरह से भी ग़लत हो सकते हैं। शायद आप ग़लत नहीं हैं, लेकिन उस संभावना के प्रति ख़ुद को खोलने से ही आप ज़्यादा प्रभावी लीडर बन जाते हैं, क्योंकि इससे आपका दिमाग़ नए विचारों या नई सोच के प्रति खुल जाएगा।

कम उम्र में अब्राहम लिंकन एक जनरल स्टोर में क्लर्क थे। एक दिन उन्हें पता चला कि एक ग्राहक ने कुछ सिक्के ज़्यादा दिए थे। लिंकन उस ग्राहक को खोजने और सिक्के लौटाने लिए कई मील पैदल चलकर गए। यह कहानी चारों तरफ़ फैल गई और जल्दी ही लिंकन को 'ईमानदार एब' का ख़िताब मिल गया। 

आगे चलकर उनकी असंदिग्ध ईमानदारी और सत्यनिष्ठा ने राष्ट्रपति बनने के बाद उनकी बहुत मदद की, जब उनके नेतृत्व में अमेरिका इतिहास के सबसे भीषण दौर से गुज़र रहा था, जहाँ देश का अस्तित्व ही दाँव पर लगा था। लिंकन संभवतः अपनी उपलब्धियों के लिए सबसे प्रशंसित और सम्मानित अमेरिकी राष्ट्रपति थे, लेकिन उनकी उपलब्धियों के मूल में वही सत्यनिष्ठा थी, जिसने छोटे लिंकन को उस ग्राहक को चंद सिक्के लौटाने के लिए प्रेरित किया था।

ईमानदारी और निष्पक्षता के कोई अपवाद नहीं होने चाहिए। उस ग्राहक ने सिर्फ़ चंद सिक्के ज़्यादा दिए थे, इससे अब्राहम लिंकन को कोई फ़र्क नहीं पड़ा था उस ग्राहक को पैसे लौटाने थे, यही सत्य था और इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता था कि कितने। 

अगर आप छोटी स्थितियों में समझौता करने को तैयार रहते हैं, जो 'ज़्यादा महत्त्वपूर्ण नहीं हैं,' तो बड़ी परिस्थितियों में समझौता करना बहुत आसान हो जाता है। सत्यनिष्ठा एक मानसिक अवस्था है और यह स्थिति पर निर्भर नहीं करती है।

लीडर हमेशा निष्पक्ष रहते हैं, ख़ासतौर पर जब दूसरे लोग अन्यायपूर्ण हों। वास्तव में नेतृत्व की सच्ची निशानी यह है कि जब दूसरे आपके साथ अन्यायपूर्ण व्यवहार कर रहे हों, तो आप कितने न्यायपूर्ण हो सकते हैं।

लीडर बनने के सात क़दम या तत्व :

1. इच्छा। आपमें नेतृत्व के अनुभव और ज़िम्मेदारी दोनों की सच्ची इच्छा होनी चाहिए।

2. निर्णय। निर्णय लें कि आप नेतृत्व के इन क़दमों की क़ीमत चुकाएँगे और इनका अभ्यास करेंगे। 

3. संकल्प। करियर के शुरुआती वर्षों से ही लीडर्स में लीडर बनने का और बने रहने का भारी संकल्प होता है।

4. अनुशासन। आत्म-अनुशासन कुंजी है। आत्म-महारत और आत्म-नियंत्रण हासिल करने की आपकी योग्यता ही काफ़ी हद तक यह तय करेगी कि आप नेतृत्व के कितने ऊँचे स्तरों तक पहुँच पाते हैं।

5. रोल मॉडलिंग। उन लीडर्स से सीखें जिनकी आप प्रशंसा करते हैं, इस बारे में सोचें कि आप उनके व्यवहार को अपने व्यवहार में कैसे उतार सकते हैं। 

6. अध्ययन। नेतृत्व पर पुस्तकें पढ़ें, नेतृत्व पर कोर्स करें और सीखें कि प्रभावी नेतृत्व क्या होता है। हमेशा यही सोचें कि आप जो पढ़ रहे हैं, उस पर कैसे अमल कर सकते हैं।

7. अभ्यास करें। नेतृत्व सीखा जा सकता है। नेतृत्व सीखा जाना चाहिए। नेतृत्व हमारी सभ्यता की सबसे बड़ी और सबसे ज़बर्दस्त आवश्यकता है। नेतृत्व करने वाले समूह में आपकी इतनी ज़्यादा ज़रूरत कभी नहीं रही, जितनी कि आज है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दौलत मनुष्य की सोचने की क्षमता का परिणाम है

आपका मस्तिष्क असीमित है यह तो आपकी शंकाएं हैं जो आपको सीमित कर रही हैं दौलत किसी मनुष्य की सोचने की क्षमता का परिणाम है इसलिए यदि आप अपना जीवन बदलने को तैयार हैं तो मैं आपका परिचय एक ऐसे माहौल से करवाने जा रहा हूं जो आपके मस्तिष्क को सोचने और आपको ज्यादा अमीर बनाने का अवसर प्रदान करेगा।  अगर आप आगे चलकर अमीर बनना चाहते हैं तो आपको एक ऐसा व्यक्ति होना चाहिए जिसके दरमियान 500 से अधिक व्यक्ति कार्यरत हो ऐसा कह सकते हैं कि वह एक इंडस्ट्रियलिस्ट होना चाहिए या एक इन्वेस्टर होना चाहिए उसको यह मालूम होना चाहिए की इन्वेस्टमेंट कैसे किया जाए। जिस प्रकार व अपनी दिमागी क्षमता का इन्वेस्टमेंट करता है उसी प्रकार उसकी पूंजी बढ़ती है यह उस व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वह अपनी दिमागी क्षमता का किस प्रकार इन्वेस्टमेंट करें कि उसकी पूंजी बढ़ती रहे तभी वह एक अमीर व्यक्ति की श्रेणी में उपस्थित होने के लिए सक्षम होगा। जब कोई व्यक्ति नौकरी छोड़ कर स्वयं का व्यापार स्थापित करना चाहता है तो इसका एक कारण है कि वह अपनी गरिमा को वापस प्राप्त करना चाहता है अपने अस्तित्व को नया रूप देना चाहता है कि उस पर किसी का अध

जीवन को समझे,अपने विचारों को उद्देश्य में परिवर्तित करें

जीवन को समझने के लिए आपको पहले अपने आप को समझना होगा तभी आप जीवन को समझ पाएंगे जीवन एक पहेली नुमा है इसे हर कोई नहीं समझ पाता,  लोगों का जीवन चला जाता है और उन्हें यही पता नहीं होता कि हमें करना क्या था हमारा उद्देश्य क्या था हमारे विचार क्या थे हमारे जीवन में क्या परिवर्तन करना था हमारी सोच को कैसे विकसित करना था,  यह सारे बिंदु हैं जो व्यक्ति बिना सोचे ही इस जीवन को व्यतीत करता है और जब आखरी समय आता है तो केवल कुछ व्यक्तियों को ही एहसास होता है कि हमारा जीवन चला गया है कि हमें हमारे जीवन में यह परिवर्तन करने थे,  वही परिवर्तन व्यक्ति अपने बच्चों को रास्ता दिखाने के लिए करता है लेकिन वे परिवर्तन को सही मुकाम तक पहुंचाने में कामयाब हो पाते हैं या नहीं यह तो उनकी आने वाली पीढ़ी को देखकर ही अंदाजा लगाया जा सकता है,  कि उनकी पीढ़ी कहां तक सक्षम हो पाई है और अपने पिता के उद्देश्य को प्राप्त कर पाने में सक्षम हो पाई है या नहीं, व्यक्ति का जीवन इतना स्पीड से जाता है कि उसके सामने प्रकाश का वेग भी धीमा नजर आता है, व्यक्ति अपना अधिकतर समय बिना सोचे समझे व्यतीत करता है उसकी सोच उसके उद्देश्य से

लक्ष्य की स्थिरता क्या आपके जीवन को बदल सकती है ?

सकारात्मक सोच महत्वपूर्ण है, लेकिन यह पर्याप्त नहीं है, अगर दिशा न दी जाए और नियंत्रित न किया जाए, तो सकारात्मक सोच जल्द ही विकृत होकर सिर्फ सकारात्मक इच्छा और सकारात्मक आशा बनकर रह सकती है।  लक्ष्य हासिल करने में एकाग्र और प्रभावी बनने के लिए सकारात्मक सोच को "सकारात्मक जानने" में बदलना होगा, आपको अपने अस्तित्व की गहराई में इस बात पर पूरा यकीन करना होगा कि आप किसी खास लक्ष्य को हासिल करने में जरुर सफल होंगे, आपको अपनी अंतिम सफलता के बारे में दृढ़ विश्वास होना चाहिए कि कोई भी चीज आपको रोक नहीं सकती।  एक महत्वपूर्ण मानसिक नियम है, जो भी छाप छूटती हैं, वह व्यक्त जरूर होती है, आप अपने अवचेतन मन पर जो भी गहरी छाप छोड़ते हैं, वह अंततः आपके बाहरी जगत में अभिव्यक्त होती हैं, मानसिक प्रोग्रामिंग में आपका मकसद आपने अवचेतन मन पर अपने लक्ष्य की गहरी छाप छोड़ना है। मैं कई सालों तक अपने लक्ष्य पर काम करता रहा था, उन्हें साल में एक दो बार लिख लेता था, और मौका मिलने पर उनकी समीक्षा भी कर लेता था, इससे मेरे जीवन में अविश्वसनीय फर्क पड़ा, अक्सर मैं जनवरी में पूरे साल के लक्ष्यों की सूची बनाता