सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

सफल और असफल लोगों के बीच का बुनियादी फर्क लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

कार्ल मार्क्स और उनकी शिक्षा

दिसम्बर, 1864 में कार्ल मार्क्स ने 'प्रथम अंतर्राष्ट्रीय मजदूर सभा' का गठन किया। इसी के माध्यम से उन्होंने शेष विश्व के श्रमिक वर्ग से संगठित होने का आह्वान किया। उनका कहना था कि यदि श्रमिक वर्ग को अपने अधिकार प्राप्त करने हैं तो उन्हें संगठित होना ही होगा। वास्तव में कार्ल मार्क्स मजदूर वर्ग के मसीहा थे। उन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन सामाजिक उत्थान और मजदूर वर्ग को उनका अधिकार दिलाने के लिए समर्पित कर दिया। मार्क्स ने समाजवाद का सिद्धांत तो दिया ही, साथ ही अर्थशास्त्र से सम्बंधित अनेक सिद्धांतों का भी प्रतिपादन किया। सामाजिक और आर्थिक क्षेत्र में दिए गए उनके महत्त्वपूर्ण योगदान को आज 'मार्क्सवाद' के रूप में याद किया जाता है। कार्ल मार्क्स के पिता हर्शल मार्क्स एक वकील थे, जो यहूदी परिवार से सम्बंध रखते थे। हर्शल मार्क्स के पिता और भाई यहूदी समुदाय के पुरोहित थे और उनकी पत्नी हॉलैंड के उस परिवार से सम्बंधित थीं, जहां यहूदियों की पुरोहिताई का कार्य होता था। कार्ल के पिता हर्शल को यहूदियों से नफरत थी, उन पर फ्रांस की महान विभूतियों रूसो और वॉल्टेयर के विचारों का भी गहरा प्र

सफल और असफल लोगों के बीच का बुनियादी फर्क

1. महान लीडर्स में एक ऐसा गुण होता है, जो उन्हें दूसरों से अलग बनाता है, यह गुण है भविष्य दृष्टा होने का, लीडर्स के पास भविष्य दृष्टि होती है, गैर लीडर्स के पास नहीं होती। 2. लीडर्स हमेशा भविष्य के बारे में सोचते हैं, वे इस बारे में सोचते हैं, कि वे कहां जा रहे हैं, और वहां पहुंचने के लिए वे क्या कर सकते हैं। 3. दीर्घकालीन दृष्टिकोण जीवन में आर्थिक और व्यक्तिगत सफलता को तय करने वाला सबसे महत्वपूर्ण तत्व है, वर्तमान में निर्णय लेते वक्त कई साल आगे तक सोचने की योग्यता दीर्घकालीन दृष्टिकोण है। 4. आप भविष्य के बारे में जितने आगे तक सोचकर निर्णय लेते हैं, आपके निर्णय उतने ही बेहतर होते हैं, और आपके सपनों के साकार होने की संभावना भी उतनी ही ज्यादा बढ़ जाती है। 5. लक्ष्य पाने में सबसे बड़ी बाधा खुद को सीमित करने वाले विश्वास होते हैं। 6. असफल लोग हमेशा इसी पशोपेश में रहते हैं कि किसी तयशुदा लक्ष्य को पाना मुमकिन है या नहीं। 7. ऊंची सफलता पाने वाले लोग सिर्फ यह सवाल पूछते हैं, कैसे ? और फिर वे अपने सपनों और लक्ष्यों को हकीकत में बदलने के तरीके खोजने में जुट जाते हैं। 8. हम इस बारे में काफी ज्य