सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

अतिचेतन मन की कार्यविधि लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

धन संपत्ति के मामले में आपकी सोच...?

मैंने अपने कॉलेज के वर्ष लॉस एन्जेलस के एक बढ़िया होटल में सेवक के रूप में बिताये। वहाँ एक तकनीकी कार्यकारी अतिथि के रूप में अक्सर आया करता था। वह काफ़ी प्रतिभावान था, उसने लगभग 20 वर्ष से कुछ ही अधिक की आयु में वाई- फ़ाई का एक मुख्य घटक डिज़ाइन कर पेटेंट किया था। वह कई कंपनियां शुरु करके बेच चुका था और बेतहाशा कामयाब था। धन संपत्ति के साथ उसका जो संबंध था, उसे मैं असुरक्षा और बचकानी मूर्खता का मेल कहूँगा। वह सौ डॉलर के नोटों की कई इंच मोटी गड्डी साथ लेकर घूमता था, जिसे वह हर किसी को दिखाता था, फिर चाहे वे देखना चाहते हों या नहीं। वह बिना किसी संदर्भ के अपनी धन सम्पदा की खुलकर डींग मारता, ख़ासकर जब वह नशे में धुत होता। एक दिन उसने मेरे एक सहकर्मी को कई हज़ार डॉलर की रकम दी और कहा, "गली में जो ज़वाहरात की दुकान है, वहाँ जाओ और 1000 डॉलर के कुछ सोने के सिक्के लेकर आओ।" एक घंटे बाद, हाथ में सोने के सिक्के लिये, वह कार्यकारी और उसके दोस्त एक डॉक के चारों तरफ़ इकट्ठा हो गये जो प्रशांत महासागर के सामने था। फिर उन्होंने उन सिक्कों को पानी में फेंकना शुरू कर दिया। वे उन सिक्कों को

अतिचेतन मन की कार्यविधि

ऐसी कोई समस्या नहीं है जिसे आप सुलझा न सके, ऐसी कोई बाधा नहीं है जिसे आप पार न कर सके, ऐसा कोई लक्ष्य नहीं है, जिसे आप हासिल न कर सके, इसके लिए तो बस आपको अपने रचनात्मक मस्तिष्क का दोहन करना होगा, आपमें इस समय इतनी ज्यादा बुद्धि और मानसिक क्षमता है कि अगर आप सौ साल भी जिएं तब भी इसका पूरा उपयोग नहीं कर सकते। अगर आप अपनी दिमागी क्षमता बढ़ाना चाहते हैं, तो आपको मानसिक मांसपेशियां बनाने के लिए, आपको मानसिक वजन उठाना होगा, आपको अपने दिमाग पर ज्यादा दबाव और तनाव डालना होगा, अपनी सारी मानसिक ऊर्जा को विचार तथा समाधान पैदा करने पर केंद्रित करना होगा, ताकि यह आपके लक्ष्य की राह में आने वाली सभी समस्याओं को सुलझा सके। बुद्धि को बेहतर बनाने और रचनात्मकता को बढ़ाने की सबसे शक्तिशाली तकनीक वह है, जिसे आप विचारमंथन कह सकते हैं, इसके काम करने का तरीका सरल है, परिणाम आश्चर्यजनक भी होते हैं, और जीवन बदलने वाले भी होते हैं। विचारमंथन की प्रक्रिया एक कागज से शुरू होती है, इस कागज के ऊपर आप अपना लक्ष्य, प्रश्न के रूप में लिख सकते है, यह प्रश्न जितना ज्यादा सरल और स्पष्ट होगा, इसकी प्रतिक्रिया में पैद