सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

सफलता का रास्ता लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

धन संपत्ति के मामले में आपकी सोच...?

मैंने अपने कॉलेज के वर्ष लॉस एन्जेलस के एक बढ़िया होटल में सेवक के रूप में बिताये। वहाँ एक तकनीकी कार्यकारी अतिथि के रूप में अक्सर आया करता था। वह काफ़ी प्रतिभावान था, उसने लगभग 20 वर्ष से कुछ ही अधिक की आयु में वाई- फ़ाई का एक मुख्य घटक डिज़ाइन कर पेटेंट किया था। वह कई कंपनियां शुरु करके बेच चुका था और बेतहाशा कामयाब था। धन संपत्ति के साथ उसका जो संबंध था, उसे मैं असुरक्षा और बचकानी मूर्खता का मेल कहूँगा। वह सौ डॉलर के नोटों की कई इंच मोटी गड्डी साथ लेकर घूमता था, जिसे वह हर किसी को दिखाता था, फिर चाहे वे देखना चाहते हों या नहीं। वह बिना किसी संदर्भ के अपनी धन सम्पदा की खुलकर डींग मारता, ख़ासकर जब वह नशे में धुत होता। एक दिन उसने मेरे एक सहकर्मी को कई हज़ार डॉलर की रकम दी और कहा, "गली में जो ज़वाहरात की दुकान है, वहाँ जाओ और 1000 डॉलर के कुछ सोने के सिक्के लेकर आओ।" एक घंटे बाद, हाथ में सोने के सिक्के लिये, वह कार्यकारी और उसके दोस्त एक डॉक के चारों तरफ़ इकट्ठा हो गये जो प्रशांत महासागर के सामने था। फिर उन्होंने उन सिक्कों को पानी में फेंकना शुरू कर दिया। वे उन सिक्कों को

मजिस्ट्रेट कैसे बने

जब आप किसी वाइकल को 60 किलोमीटर की स्पीड से चला रहे हो, और आप उसकी स्पीड को 80 किलोमीटर कर देते हैं, तो अब आपकी वाइकल 80 किलोमीटर की स्पीड से चल रही हैं।  यानी आप APP की तैयारी से मजिस्ट्रेट की तैयारी पर आ जाते हैं, जिसकी स्पीड 80 किलोमीटर पर hour है, अगर आप अपनी वाइकल की स्पीड को 80 किलोमीटर से घटाकर 60 किलोमीटर पर hour कर देते हैं, तो क्या आप मजिस्ट्रेट बन पाएंगे, नहीं।  क्योंकि जिस तरह वाइकल की स्पीड 80 किलोमीटर से घटाकर 60 किलोमीटर पर hour करने पर वाइकल की स्पीड घट जाती हैं।  उसी तरह आप मजिस्ट्रेट की तैयारी करते समय APP की तैयारी करने लग जाएंगे, तो आप मजिस्ट्रेट कभी नहीं बन पाएंगे।  क्योंकि अब आपकी दिमागी वाइकल की क्षमता की स्पीड 80 किलोमीटर से 60 किलोमीटर पर hour पर आ चुकी हैं। कहने का तात्पर्य यह है कि जब आप किसी उद्देश्य को तय करते हैं, और उसी उद्देश्य को पाना चाहते हैं, तो उस उद्देश्य में फेरबदल नहीं होना चाहिए।  अगर आप उस उद्देश्य में फेरबदल करते हैं, तो आपकी दिमागी क्षमता में काफी फेरबदल उसी के साथ होता है, फिर आप जिस उद्देश्य को लेकर चल रहे थे, उसी उद्देश्य को पाना आपके लिए