सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

अगर आपका लक्ष्य पैसा कमाना ही है तो ? लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

धन संपत्ति के मामले में आपकी सोच...?

मैंने अपने कॉलेज के वर्ष लॉस एन्जेलस के एक बढ़िया होटल में सेवक के रूप में बिताये। वहाँ एक तकनीकी कार्यकारी अतिथि के रूप में अक्सर आया करता था। वह काफ़ी प्रतिभावान था, उसने लगभग 20 वर्ष से कुछ ही अधिक की आयु में वाई- फ़ाई का एक मुख्य घटक डिज़ाइन कर पेटेंट किया था। वह कई कंपनियां शुरु करके बेच चुका था और बेतहाशा कामयाब था। धन संपत्ति के साथ उसका जो संबंध था, उसे मैं असुरक्षा और बचकानी मूर्खता का मेल कहूँगा। वह सौ डॉलर के नोटों की कई इंच मोटी गड्डी साथ लेकर घूमता था, जिसे वह हर किसी को दिखाता था, फिर चाहे वे देखना चाहते हों या नहीं। वह बिना किसी संदर्भ के अपनी धन सम्पदा की खुलकर डींग मारता, ख़ासकर जब वह नशे में धुत होता। एक दिन उसने मेरे एक सहकर्मी को कई हज़ार डॉलर की रकम दी और कहा, "गली में जो ज़वाहरात की दुकान है, वहाँ जाओ और 1000 डॉलर के कुछ सोने के सिक्के लेकर आओ।" एक घंटे बाद, हाथ में सोने के सिक्के लिये, वह कार्यकारी और उसके दोस्त एक डॉक के चारों तरफ़ इकट्ठा हो गये जो प्रशांत महासागर के सामने था। फिर उन्होंने उन सिक्कों को पानी में फेंकना शुरू कर दिया। वे उन सिक्कों को

अगर आपका लक्ष्य पैसा कमाना ही है तो ?

अगर पैसा कमाना ही आपका लक्ष्य है, तो ध्यान रखिए कि आज जितने भी रईस हैं, सब ने शुरुआत बिना पैसे के की थी और कई तो कर्ज में डूब गए थे, आज जितने भी लोग शीर्ष पर हैं, वे कभी सबसे नीचे थे, तकरीबन हर वो शख्स जो कि आज सबसे आगे दिख रहा है, कभी सबसे पीछे था, आज का लगभग हर अमीर व्यक्ति कभी गरीब था। अमेरिका के पचास लाख से ज्यादा लखपतियों में से अधिकांश तो अपने दम पर लखपति बने, यानी कि उन्होंने खाली हाथ शुरुआत की, और अपने लक्ष्य को हासिल किया, हमारी इस दुनिया में आज अपने दम पर अरबपति और खरबपति बनने वाले लोगों की संख्या तीन सौ से भी ज्यादा है। इनमें से अधिकांश की शुरुआत बहुत कम पैसे या बिना पैसे के ही हुई थी, अपनी सोच को बदलकर उन्होंने अपने भीतर छिपी संभावनाओं का इस्तेमाल करते हुए, असाधारण वित्तीय सफलताएं हासिल की, और हर वो बात जो कि दूसरों ने की है, निश्चित ही आप भी कर सकते हैं। आपका लक्ष्य क्या है ? चार्ल्स मरे के अनुसार, जब तक आप किसी काम के प्रति पूरी तरह से समर्पित नहीं है, आप में हिचकिचाहट रहेगी, पीछे हटने की और हमेशा अप्रभावी होने की आशंका रहेगी, जहां तक पहल करने और सृजन करने की बात है, तो ए