सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

जीवन परिवर्तनशील है आप उससे कितना सीखते हैं लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

समय का प्रबंधन आपका मूल्य तय करता है

समय का प्रबंधन दरअसल जीवन का प्रबंधन है, आपकी व्यक्तिगत उत्पादकता को बेहतर बनाने का काम आपके मूल्यों के परीक्षण से शुरू होता है।  मर्फी का नियम कहता है कि कोई चीज़ करने से पहले आपको कोई दूसरी चीज़ करनी पड़ती है। समय का उचित प्रबंधन करना भी तब तक संभव नहीं है, जब तक आपको सटीकता से यही ना मालूम हो कि आपका मूल्य क्या हैं। समय के अच्छे प्रबंधन के लिए आवश्यक है कि आपका घटनाओं के क्रम पर अपना नियंत्रण आपके लिए सबसे ज़्यादा महत्त्वपूर्ण आदर्शों के सामंजस्य में हों। यदि यह आपके लिए महत्त्वपूर्ण नहीं है, तो आप अपने समय का नियंत्रण हासिल करने के लिए कभी प्रेरित और संकल्पवान महसूस नहीं करेंगे। हर इंसान को जीवन में अर्थ और उद्देश्य की गहरी ज़रूरत होती है। व्यक्तिगत तनाव और अप्रसन्नता के मुख्य कारणों में से एक यह भावना है कि आप जो कर रहे हैं, उसका आपके सबसे अंदरूनी मूल्यों और विश्वासों के संदर्भ में कोई अर्थ और उद्देश्य नहीं है। आपको हमेशा यह प्रश्न पूछकर शुरू करना चाहिए, "क्यों?" आप समय प्रबंधन की तकनीकों में ज़्यादा कार्यकुशल बन सकते है लेकिन इससे आपका कोई भला नहीं होगा, अगर आप किसी अर्

जीवन परिवर्तनशील है आप उससे कितना सीखते हैं

आप कितने लोगों के साथ रहते हैं कितने लोगों से मिलते है उसका कोई मायना नहीं है मायना इस चीज का है कि आप उन लोगों से कितना सीखते है अगर आप के चारों ओर कुछ नया करने वाले लोग रहते हैं तो आपमें भी कुछ नया करने की जिज्ञासा जागृत हो सकती है अगर आपमें कुछ सीखने की और कुछ करने की चेष्टा है तो, अन्यथा आप कोरे कागज की तरह ही रह जाएंगे जैसे कोरे कागज की तरह आए थे वैसे ही कोरे कागज की तरह चले जाएंगे। हर व्यक्ति का दिमाग उसके आसपास के आवरण द्वारा ग्रसित होता है आवरण कैसा है उसी के अनुकूल उसका दिमाग कार्य करता है जैसा आप के आसपास का वातावरण होगा उसी के अनुरूप आपकी सोच उत्पन्न होगी आपके विचारों में फेरबदल होगा आधार भी वही होगा जो वहां का वातावरण निर्धारित करता है आप पर उस वातावरण का कितना प्रभाव है यह आप पर निर्भर करता है। व्यक्ति के विचार ना तो 1 दिन में बनते हैं और ना ही 1 दिन में नष्ट होते हैं यह विचार लंबी अवधि जिसमें वह व्यक्ति रहता है उस समय अवधि के दौरान ही उत्पन्न होते हैं और नष्ट होते रहते हैं कुछ विचार आपके जीवन में स्थाई रह जाते हैं जिनका प्रभाव आप पर होता है।  विचार कभी स्थाई नहीं रहते हैं