सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

आप भी जीनियस बन सकते हैं लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

धन संपत्ति के मामले में आपकी सोच...?

मैंने अपने कॉलेज के वर्ष लॉस एन्जेलस के एक बढ़िया होटल में सेवक के रूप में बिताये। वहाँ एक तकनीकी कार्यकारी अतिथि के रूप में अक्सर आया करता था। वह काफ़ी प्रतिभावान था, उसने लगभग 20 वर्ष से कुछ ही अधिक की आयु में वाई- फ़ाई का एक मुख्य घटक डिज़ाइन कर पेटेंट किया था। वह कई कंपनियां शुरु करके बेच चुका था और बेतहाशा कामयाब था। धन संपत्ति के साथ उसका जो संबंध था, उसे मैं असुरक्षा और बचकानी मूर्खता का मेल कहूँगा। वह सौ डॉलर के नोटों की कई इंच मोटी गड्डी साथ लेकर घूमता था, जिसे वह हर किसी को दिखाता था, फिर चाहे वे देखना चाहते हों या नहीं। वह बिना किसी संदर्भ के अपनी धन सम्पदा की खुलकर डींग मारता, ख़ासकर जब वह नशे में धुत होता। एक दिन उसने मेरे एक सहकर्मी को कई हज़ार डॉलर की रकम दी और कहा, "गली में जो ज़वाहरात की दुकान है, वहाँ जाओ और 1000 डॉलर के कुछ सोने के सिक्के लेकर आओ।" एक घंटे बाद, हाथ में सोने के सिक्के लिये, वह कार्यकारी और उसके दोस्त एक डॉक के चारों तरफ़ इकट्ठा हो गये जो प्रशांत महासागर के सामने था। फिर उन्होंने उन सिक्कों को पानी में फेंकना शुरू कर दिया। वे उन सिक्कों को

आप भी जीनियस बन सकते हैं

यह सब बुद्धि का खेल है कि एक व्यक्ति में 10 से अधिक प्रकार की बुद्धि होती है। बहुल बुद्धियो ( multiple intelligence ) की अवधारणा के प्रवर्तक हावर्ड यूनिवर्सिटी के डॉक्टर हावर्ड गार्डनर के अनुसार आपने कम से कम 10 अलग-अलग बुद्धिया होती हैं जिनमें से किसी एक में आप जीनियस हो सकते हैं। दुर्भाग्य से स्कूल कॉलेजों में सिर्फ दो ही बुद्धियों को नापा जाता है और उन्हीं पर ध्यान दिया जाता है शाब्दिक और गणितीय, लेकिन अन्य बुद्धिया भी होती है जैसे विजीयो स्पेसियल बुद्धि ( कला, डिजाइन ), उधमी बुद्धि ( बिज़नेस खड़ा करना ), शारीरिक या काइनेस्थेटिक बुद्धि ( खेलकूद ), सांगीतिक बुद्धि ( वाद्ययंत्र बजाना या संगीत की रचना करना ), सामाजिक बुद्धि ( दूसरों के साथ मिलकर चलना ), इंटरापर्सनल बुद्धि ( गहरे स्तर पर खुद को समझना ), सहज बुद्धि ( सही चीज करने या कहने की योग्यता ), कलात्मक बुद्धि ( कलाकृतियां बनाना ), या अमूर्त बुद्धि ( भौतिकी, विज्ञान ) । आप इनमें से किसी में भी जीनियस हो सकते हैं।   जैसा कि एक सिटी स्कूल के साइन बोर्ड पर लिखा था "ईश्वर घटिया सामान नहीं बनाता।" हर इंसान में किसी न किसी क्षे