सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

"हिटलर" एडोल्फ हिटलर कैसे बना लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

धन संपत्ति के मामले में आपकी सोच...?

मैंने अपने कॉलेज के वर्ष लॉस एन्जेलस के एक बढ़िया होटल में सेवक के रूप में बिताये। वहाँ एक तकनीकी कार्यकारी अतिथि के रूप में अक्सर आया करता था। वह काफ़ी प्रतिभावान था, उसने लगभग 20 वर्ष से कुछ ही अधिक की आयु में वाई- फ़ाई का एक मुख्य घटक डिज़ाइन कर पेटेंट किया था। वह कई कंपनियां शुरु करके बेच चुका था और बेतहाशा कामयाब था। धन संपत्ति के साथ उसका जो संबंध था, उसे मैं असुरक्षा और बचकानी मूर्खता का मेल कहूँगा। वह सौ डॉलर के नोटों की कई इंच मोटी गड्डी साथ लेकर घूमता था, जिसे वह हर किसी को दिखाता था, फिर चाहे वे देखना चाहते हों या नहीं। वह बिना किसी संदर्भ के अपनी धन सम्पदा की खुलकर डींग मारता, ख़ासकर जब वह नशे में धुत होता। एक दिन उसने मेरे एक सहकर्मी को कई हज़ार डॉलर की रकम दी और कहा, "गली में जो ज़वाहरात की दुकान है, वहाँ जाओ और 1000 डॉलर के कुछ सोने के सिक्के लेकर आओ।" एक घंटे बाद, हाथ में सोने के सिक्के लिये, वह कार्यकारी और उसके दोस्त एक डॉक के चारों तरफ़ इकट्ठा हो गये जो प्रशांत महासागर के सामने था। फिर उन्होंने उन सिक्कों को पानी में फेंकना शुरू कर दिया। वे उन सिक्कों को

"हिटलर" एडोल्फ हिटलर कैसे बना

जर्मनी की कुछ ऐसी घटनाएं हैं उन घटनाओं ने हिटलर को काफी प्रभावित किया है उनमें से कुछ घटनाएं इस प्रकार है इन घटनाओं ने हिटलर को एडोल्फ हिटलर बना दिया : सन 1792 से 1814 तक फ्रांसीसी क्रांतिकारी सेनाओं ने जर्मनी को अपने कब्जे में ले रखा था, होइनलिंडन में हुई ऑस्ट्रिया की पराजय में बवेरिया का भी हाथ था, फ्रांसिसियों ने म्यूनिख पर कब्जा कर लिया, सन 1805 में नेपोलियन ने बवेरियन डलेक्टर को बवेरिया का राजा बना दिया, और बदले में उसने 30,000 सैनिकों को जुटाकर प्रत्येक युद्ध में नेपोलियन की सहायता की, इस तरह बवेरिया पूरी तरह से फ्रांसिसियों की जागीर बन गया, यह जर्मनी के घोर अपमान का समय था, इस घटना ने बालक हिटलर को बहुत प्रभावित किया था। दक्षिणी जर्मनी में सन 1800 में "जर्मनी का घोर अपमान" शीर्षक से एक पुस्तिका छपी, इस पुस्तक का विवरण करने वालों में न्यूरमबर्ग का पुस्तक विक्रेता जाहन्ज फिलिप पल्म भी था, उसे एक बवेरियन एजेंट ने फ्रांसीसियों को सौंप दिया, लेकिन मुकदमे के समय उसने लेखक का नाम बताने से इनकार कर दिया, अतः 26 अगस्त 1806 को नेपोलियन के आदेश से उसे ब्राउनाउ ऑन द इन में गोली से