सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

समस्या सुलझाना एक योग्यता है कैसे ? लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

धन संपत्ति के मामले में आपकी सोच...?

मैंने अपने कॉलेज के वर्ष लॉस एन्जेलस के एक बढ़िया होटल में सेवक के रूप में बिताये। वहाँ एक तकनीकी कार्यकारी अतिथि के रूप में अक्सर आया करता था। वह काफ़ी प्रतिभावान था, उसने लगभग 20 वर्ष से कुछ ही अधिक की आयु में वाई- फ़ाई का एक मुख्य घटक डिज़ाइन कर पेटेंट किया था। वह कई कंपनियां शुरु करके बेच चुका था और बेतहाशा कामयाब था। धन संपत्ति के साथ उसका जो संबंध था, उसे मैं असुरक्षा और बचकानी मूर्खता का मेल कहूँगा। वह सौ डॉलर के नोटों की कई इंच मोटी गड्डी साथ लेकर घूमता था, जिसे वह हर किसी को दिखाता था, फिर चाहे वे देखना चाहते हों या नहीं। वह बिना किसी संदर्भ के अपनी धन सम्पदा की खुलकर डींग मारता, ख़ासकर जब वह नशे में धुत होता। एक दिन उसने मेरे एक सहकर्मी को कई हज़ार डॉलर की रकम दी और कहा, "गली में जो ज़वाहरात की दुकान है, वहाँ जाओ और 1000 डॉलर के कुछ सोने के सिक्के लेकर आओ।" एक घंटे बाद, हाथ में सोने के सिक्के लिये, वह कार्यकारी और उसके दोस्त एक डॉक के चारों तरफ़ इकट्ठा हो गये जो प्रशांत महासागर के सामने था। फिर उन्होंने उन सिक्कों को पानी में फेंकना शुरू कर दिया। वे उन सिक्कों को

समस्या सुलझाना एक योग्यता है कैसे ?

आपको क्या लगता है ज्यादातर लोग तो पहली कोशिश करने से पहले ही हार मान लेते हैं, वह इसलिए हार मान लेते हैं, क्योंकि जैसे ही वे कोई नया काम करने का फैसला करते हैं, तमाम किस्म की बाधाएं, मुश्किलें, समस्याएं और अवरोध सामने प्रकट हो जाते हैं, और वह भी फौरन।  सफल लोग असफल लोगों से कहीं ज्यादा बार असफल होते हैं, सफल लोग ज्यादा चीजें आजमाते हैं, गिरते हैं, उठते हैं, और फिर दोबारा कोशिश करते हैं, बार-बार करते हैं, जब तक कि वे आखिरकार सफल नहीं हो जाते।  दूसरी और असफल लोग अगर आजमाते भी है, तो बहुत कम चीजें आजमाते हैं, और बहुत जल्दी छोड़ देते हैं, और दोबारा लौटकर वहीं पहुंच जाते हैं, जो वे पहले कर रहे थे। लक्ष्य हासिल करने से पहले आप कई बार असफल होंगे, असफलता और अस्थायी पराजय को उस सफलता की कीमत माने, जिससे आप अनिवार्य रूप से हासिल करेंगे। हेनरी फोर्ड ने एक बार कहा था "असफलता ज्यादा समझदारी से दोबारा शुरुआत करने का अवसर है।" लक्ष्य तय करने के बाद खुद से पूछें, मैं इस वक्त वहां क्यों नहीं हूं ? कौन सी चीज या व्यक्ति मुझे पीछे रोके हुए हैं ? मैंने अब तक वह लक्ष्य हासिल क्यों नहीं किया है ?