सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

संदेश

पॉजिटिव एनर्जी का प्रभाव लेबल वाली पोस्ट दिखाई जा रही हैं

धन संपत्ति के मामले में आपकी सोच...?

मैंने अपने कॉलेज के वर्ष लॉस एन्जेलस के एक बढ़िया होटल में सेवक के रूप में बिताये। वहाँ एक तकनीकी कार्यकारी अतिथि के रूप में अक्सर आया करता था। वह काफ़ी प्रतिभावान था, उसने लगभग 20 वर्ष से कुछ ही अधिक की आयु में वाई- फ़ाई का एक मुख्य घटक डिज़ाइन कर पेटेंट किया था। वह कई कंपनियां शुरु करके बेच चुका था और बेतहाशा कामयाब था। धन संपत्ति के साथ उसका जो संबंध था, उसे मैं असुरक्षा और बचकानी मूर्खता का मेल कहूँगा। वह सौ डॉलर के नोटों की कई इंच मोटी गड्डी साथ लेकर घूमता था, जिसे वह हर किसी को दिखाता था, फिर चाहे वे देखना चाहते हों या नहीं। वह बिना किसी संदर्भ के अपनी धन सम्पदा की खुलकर डींग मारता, ख़ासकर जब वह नशे में धुत होता। एक दिन उसने मेरे एक सहकर्मी को कई हज़ार डॉलर की रकम दी और कहा, "गली में जो ज़वाहरात की दुकान है, वहाँ जाओ और 1000 डॉलर के कुछ सोने के सिक्के लेकर आओ।" एक घंटे बाद, हाथ में सोने के सिक्के लिये, वह कार्यकारी और उसके दोस्त एक डॉक के चारों तरफ़ इकट्ठा हो गये जो प्रशांत महासागर के सामने था। फिर उन्होंने उन सिक्कों को पानी में फेंकना शुरू कर दिया। वे उन सिक्कों को

पॉजिटिव एनर्जी का प्रभाव

सकारात्मक सोच आपको वह सब कुछ दे सकती हैं, जिसका आज तक आपने अनुमान नहीं लगाया होगा, जब आप पूर्ण रूप से सकारात्मक होते हैं, तो आपकी संपूर्ण क्रियाएं सकारात्मक होती है, आप सकारात्मकता की और तीव्र गति से बढ़ते हैं, और आपके आसपास का दायरा भी आपके साथ सकारात्मक हो जाता है। आपकी सोच ही आपके जीवन के आगे का रास्ता तय करती हैं, कि आपकी सोच अपने लक्ष्य के प्रति कितनी स्पष्ट है, आप अपनी सोच का दायरा जितना सकारात्मक रखेंगे, आपके अवरोध उतनी ही तीव्र गति से आपसे दूर होते जाएंगे, और आप अपने लक्ष्य की और तीव्र गति से बढ़ेंगे और जल्दी आप अपने लक्ष्य तक पहुंच जाएंगे। जिंदगी में आप क्या सोचते हो यह इंपॉर्टेंट नहीं है, बल्कि यह इंपॉर्टेंट है कि आप कितना सटीक सोचते हो, जिंदगी हर वक्त आपके साथ एक नया खेल खेलती हैं, और उसमें आप अपनी भूमिका निभाते हो, चाहे वह सही हो या गलत। पॉजिटिव और नेगेटिव एनर्जी :  एनर्जी दो प्रकार की होती है नेगेटिव एनर्जी और पोजिटिव एनर्जी, ये हर समय परिवर्तनशील है, इसका प्रभाव प्रत्येक व्यक्ति पर होता है, जो कम या ज्यादा हो सकता है, प्रत्येक व्यक्ति हर सेकंड में अपने मतलब के अनुरूप अपनी

पॉजिटिव एनर्जी का प्रभाव

व्यक्ति के विचारों की एक फ्रीक्वेंसी होती है जो वह प्रत्येक दिन इस ब्रह्मांड में अपने विचारों को एक फ्रीक्वेंसी के द्वारा छोड़ने का काम करता है उस फ्रीक्वेंसी का दायरा एक समय के बाद वापस लौट कर आप ही के पास आता है और जैसी फ्रीक्वेंसी आपने इस ब्रह्मांड में छोड़ी थी वैसे ही विचारों के लोग आपसे मिलते हैं और वैसी ही गतिविधि आपके साथ होती है और यह आप को ही मालूम नहीं होता है कि यह सब कुछ वैसा ही हो रहा है जैसा आपने स्वयं अपने विचारों में चाहा था। जो विचार आपने अपने मन मस्तिष्क में उत्पन्न किए हैं जिनका आपने मनन किया है वही विचार फ्रीक्वेंसी के रूप में आपने इस ब्रह्मांड में प्रकाशित किया है और जब किसी विचारो का प्रकाशन हो जाता है तो उस विचारों का जवाब आना लाजमी है।  इसीलिए बुद्ध ने कहा है कि आप हमेशा पॉजिटिव सोचो आपके दिमाग में एक भी विचार नेगेटिव नहीं आना चाहिए तभी आप पॉजिटिविटी की ओर बढते हुए नजर आओगे और आपका रास्ता एक दिन पॉजिटिव ही बनकर रह जाएगा और आपकी सोच हमेशा के लिए पॉजिटिव हो जाएगी। आपको अपने जीवन में पॉजिटिव बनने के लिए, आपको केवल सिंगल साइड पॉजिटिव की और ही ध्यान देना होगा चाहे आप