सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

धन संपत्ति के मामले में आपकी सोच...?

मैंने अपने कॉलेज के वर्ष लॉस एन्जेलस के एक बढ़िया होटल में सेवक के रूप में बिताये। वहाँ एक तकनीकी कार्यकारी अतिथि के रूप में अक्सर आया करता था। वह काफ़ी प्रतिभावान था, उसने लगभग 20 वर्ष से कुछ ही अधिक की आयु में वाई- फ़ाई का एक मुख्य घटक डिज़ाइन कर पेटेंट किया था। वह कई कंपनियां शुरु करके बेच चुका था और बेतहाशा कामयाब था। धन संपत्ति के साथ उसका जो संबंध था, उसे मैं असुरक्षा और बचकानी मूर्खता का मेल कहूँगा। वह सौ डॉलर के नोटों की कई इंच मोटी गड्डी साथ लेकर घूमता था, जिसे वह हर किसी को दिखाता था, फिर चाहे वे देखना चाहते हों या नहीं। वह बिना किसी संदर्भ के अपनी धन सम्पदा की खुलकर डींग मारता, ख़ासकर जब वह नशे में धुत होता। एक दिन उसने मेरे एक सहकर्मी को कई हज़ार डॉलर की रकम दी और कहा, "गली में जो ज़वाहरात की दुकान है, वहाँ जाओ और 1000 डॉलर के कुछ सोने के सिक्के लेकर आओ।" एक घंटे बाद, हाथ में सोने के सिक्के लिये, वह कार्यकारी और उसके दोस्त एक डॉक के चारों तरफ़ इकट्ठा हो गये जो प्रशांत महासागर के सामने था। फिर उन्होंने उन सिक्कों को पानी में फेंकना शुरू कर दिया। वे उन सिक्कों को

आत्मविश्वास से बोलने की कला कैसे विकसित करें?

द गिनीज बुक ऑफ़ लिस्ट्स के अनुसार 54 प्रतिशत वयस्क सार्वजनिक रूप से बोलने के डर को मौत के डर से भी ज़्यादा डरावना मानते हैं। यह मीटिंगों में शिरकत करने और अपने समकक्षों के सामने बोलने वाले लोगों पर लागू होता है। कई मामलों में लोग इतने संकोची और भयभीत होते हैं कि वे पूरी मीटिंग में चुपचाप बैठे रहते हैं और उम्मीद करते हैं कि कोई उन पर गौर नहीं करेगा।

कई बार मैं अपनी प्रस्तुतियाँ यह बताकर शुरू करता हूँ कि सार्वजनिक रूप से बोलने का डर सबसे यातना भरे डरों में से एक है और यह अक्सर लोगों को वह हासिल करने से पीछे रखता है, जो उनके लिए संभव है। मैं उनसे कहता हूँ, कि आइए मैं इस डर को प्रदर्शित करता हूँ और यह भी बताता हूँ कि यह लोगों को कैसे पीछे रोककर रखता है।

फिर मैं कहता हूँ, कि "इस प्रस्तुति में बाद में मैं श्रोताओं से किसी को चुनूँगा और उसे मंच पर बुलाकर एक संक्षिप्त प्रस्तुति देने को कहूँगा कि उन्होंने क्या सीखा है और इस व्याख्यान के फलस्वरूप वे क्या अलग करने वाले हैं।"

मैं श्रोताओं पर अपनी निगाह घुमाता हूँ, एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के चेहरे तक जाता हूँ, जैसे मैं यह निर्णय लेने की कोशिश कर रहा हूँ कि मैं मंच पर बोलने के लिए श्रोताओं में से किस प्रतिभागी को बुलाऊँगा। दर्शक पूरी तरह ख़ामोश हो जाते हैं, फिर मैं पूछता हूँ, कि "आपको कैसा महसूस हुआ, जब मैंने आपको बताया कि मैं आपको इस दर्शक समूह के सामने बोलने के लिए यहाँ बुला सकता हूँ?" ज़्यादातर लोग कहते हैं, "मैं सचमुच उम्मीद कर रहा था कि आप मुझे नहीं चुनें!"

अपने समकक्षों के सामने खड़े होकर बोलने या इससे भी बुरी बात, अजनबियों के सामने बोलने का विचार ही यातना से भरा हो सकता है। आपके पेट में उथल-पुथल होने लगेगी। आपकी धड़कन तेज़ हो जाएगी। आपका दिमाग़ ख़ाली हो जाएगा। आपको पसीना आने लगेगा।

बहरहाल, उठकर स्पष्टता से बोलने, अपनी बात रखने और दूसरों को अपने दृष्टिकोण का विश्वास दिलाने की आपकी योग्यता आपके करियर की गति को तेज़ कर सकती है और आपको अपनी कंपनी में तेज़ मार्ग पर पहुँचा सकती है।

आपको संकोच या सार्वजनिक रूप से बोलने के डर से उबरने का निर्णय लेना होगा। आपको दूसरे लोगों के सामने उत्कृष्टता से बोलने का पेशेवर निर्णय लेना होगा।

राल्फ वाल्डो इमर्सन के अनुसार युवावस्था में वे कन्कॉर्ड, मैसाचुसेट्स में सड़क पर चल रहे थे। काग़ज़ का एक टुकड़ा हवा में उड़कर उनके पैरों से टकराया। उन्होंने नीचे झुककर उसे उठाया और उस पर लिखे ये शब्द पढ़े, "वह चीज़ करें, जिससे आपको डर लगता है और डर की मृत्यु निश्चित है।" इमर्सन ने कहा कि इन शब्दों ने उनकी ज़िंदगी बदल दी।

मनोविज्ञान में हम जानते हैं कि किसी भी तरह के डर से उबरने का आपके पास एक ही तरीक़ा है और वह यह है कि आप उस काम को कर दें, जिसे करने से आपको डर लगता है। अक्सर आपकी सबसे बड़ी सफलता आपके सबसे बड़े डर के दूसरी तरफ़ होती है। अगर आप उसके पार जा सकें, तो ना सिर्फ आप ज़्यादा सफल हो सकते हैं, बल्कि आप खुद को पीछे रोकने वाले दूसरे डरों को भी मिटा सकते हैं।

मीटिंगों में बोलने के डर से उबरने का तरीक़ा यह है कि आप उनके सदस्य बन जाएँ, इन मीटिंगों में जाकर और उनमें बोलने का अवसर पाकर आप सिर्फ कुछ हफ्तों में ही अपने जीवन का काया कल्प कर सकते है। इसे 'सुनियोजित संवेदनशून्यता की प्रक्रिया' कहते हैं। 

जब आप कोई चीज़ बार-बार करते हैं, तो अंततः इसे करने का डर खत्म हो जाता है। जब आप इन मीटिंगों में से किसी एक में शामिल होते हैं, तो आपको अपने समूह के दूसरे सदस्यों के सामने खड़े होने और हर सप्ताह कुछ शब्द बोलने का अवसर मिलेगा। प्रारम्भ में तो आपको घबराहट और डर लग सकता है, लेकिन दूसरे या तीसरे सप्ताह के बाद आप पाएँगे कि आप लोगों के सामने बोल रहे हैं, जिनमें से प्रत्येक को आप उसके पहले नाम से जानते हैं। यह एक छोटे 'व्यावसायिक परिवार' जैसा होगा। आपका डर ग़ायब हो जाता है।

डर और आत्मविश्वास के बीच विपरीत संबंध होता है। जब सफल अनुभवों की वजह से आपका आत्मविश्वास बढ़ता है, तो आपका डर उसी अनुपात में कम होता जाता है। जल्दी ही आप उस बिंदु पर पहुँच जाते हैं, जहाँ आप किसी समूह के सामने बोलने और अपने विचार व्यक्त करने में पूरी तरह निडर हो जाते हैं, लगभग किसी भी विषय पर।

इसके अलावा सार्वजनिक संभाषण पर कई अच्छी पुस्तकें और ऑडियो कोर्स भी उपलब्ध हैं। सुधार जल्दी और स्थायी हो सकते हैं। नियमित बैठकों में हिस्सा लेकर, पुस्तकें पढ़कर तथा ऑडियो सुनकर आप छह महीने में ही किसी भी तरह के दर्शक समूह के सामने बोलने में सक्षम होंगे और वह भी आत्मविश्वास तथा स्पष्टता के साथ।

स्पीकर्स अकैडमी में लोगों को सिखाते हैं कि आने वाले किसी व्याख्यान या प्रस्तुति के लिए मानसिक और भावनात्मक तैयारी कैसे की जाए। मानसिक चित्रण तैयारी का सबसे अहम हिस्सा होता है।

आप अपने समकक्षों के सामने शांति और आत्मविश्वास से बोलने की स्पष्ट मानसिक तसवीर बनाते हैं। आप इस तसवीर को अपने दिमाग़ के पर्दे पर बार-बार चलाते रहते हैं, जब तक कि आपका अवचेतन मन इसे साँचे के रूप में स्वीकार नहीं कर लेता, फिर आप अगली बार जब खुद को मीटिंग में पाते हैं, तो आपका अवचेतन मन आपको वह आत्मविश्वास और साहस प्रदान कर देगा, जिसकी ज़रूरत आपको अपनी आंतरिक तसवीर को बाहरी वास्तविकता में बदलने के लिए होती है।

एक नियम है कि जो लोग किसी मीटिंग में सबसे पहले बोलते हैं, उनका मीटिंग के परिणाम पर प्रायः सबसे ज़्यादा प्रभाव पड़ता है। इसीलिए आपको मीटिंग शुरू होने के पाँच मिनट के भीतर बोलने का संकल्प लेना चाहिए, चाहे विषय कोई भी हो।

पुरानी कहावत याद रखें : जो व्यक्ति प्रश्न पूछता है, उसके पास नियंत्रण होता है। मीटिंग के संचालक से एक स्पष्ट प्रश्न पूछकर या किसी दूसरे मुख्य वक्ता से प्रश्न पूछकर आप खुद को विचारशील, बुद्धिमान और मीटिंग में पूरी तरह संलग्न साबित कर देते हैं। एक अच्छा प्रश्न पूछने पर लोग आपको मीटिंग में 'खिलाड़ी' के रूप में देखते हैं। इसके अलावा, आप जिस व्यक्ति से प्रश्न पूछ रहे हैं, वह आपको एक महत्त्वपूर्ण और प्रभावशाली व्यक्ति के रूप में देखता है। प्रायः वह आपकी समझ तथा समर्थन सुनिश्चित करने के लिए पूरी मीटिंग में नियमित रूप से आपको संबोधित भी करेगा।

मीटिंग में जल्दी बोलने का एक लाभ यह है कि इसके बाद जब भी आपके मन में कोई प्रश्न या टिप्पणी होगी, तो आप उसे कहीं ज़्यादा आत्मविश्वास से व्यक्त कर सकते हैं।

एक और नियम है, जो कहता है, "जो व्यक्ति किसी मीटिंग में योगदान नहीं देता है, उसके बारे में यह मान लिया जाता है कि उसके पास योगदान देने के लिए कुछ नहीं है।" जब कोई किसी मीटिंग में संकोच या असुरक्षा के भाव की वजह से चुपचाप बैठा रहता है, तो मीटिंग के दूसरे प्रतिभागी अंततः इस निष्कर्ष पर पहुँचते हैं कि इस व्यक्ति के पास इस विषय पर कहने के लिए कोई मूल्यवान चीज़ नहीं है। आप ऐसा प्रभाव कतई नहीं छोड़ना चाहेंगे।

एक अंतिम बिंदु : जब आप विश्वास और सक्षमता से बोलने की योग्यता सीख लेते हैं, तो बहुत कुछ बदल जाता है। आपको अहसास ही नहीं होगा कि आप किसी एक व्यक्ति के समक्ष बोलने में या कंपनी की मीटिंग में आत्मविश्वास और सक्षमता के कहीं ज़्यादा ऊँचे स्तर पर पहुँच जाएँगे। यह योग्यता दूसरे लोगों के साथ हर संवाद में, आपके व्यक्तिगत जीवन तथा व्यवसाय में आत्मविश्वास के आपके स्तर को बढ़ा देती है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दौलत मनुष्य की सोचने की क्षमता का परिणाम है

आपका मस्तिष्क असीमित है यह तो आपकी शंकाएं हैं जो आपको सीमित कर रही हैं दौलत किसी मनुष्य की सोचने की क्षमता का परिणाम है इसलिए यदि आप अपना जीवन बदलने को तैयार हैं तो मैं आपका परिचय एक ऐसे माहौल से करवाने जा रहा हूं जो आपके मस्तिष्क को सोचने और आपको ज्यादा अमीर बनाने का अवसर प्रदान करेगा।  अगर आप आगे चलकर अमीर बनना चाहते हैं तो आपको एक ऐसा व्यक्ति होना चाहिए जिसके दरमियान 500 से अधिक व्यक्ति कार्यरत हो ऐसा कह सकते हैं कि वह एक इंडस्ट्रियलिस्ट होना चाहिए या एक इन्वेस्टर होना चाहिए उसको यह मालूम होना चाहिए की इन्वेस्टमेंट कैसे किया जाए। जिस प्रकार व अपनी दिमागी क्षमता का इन्वेस्टमेंट करता है उसी प्रकार उसकी पूंजी बढ़ती है यह उस व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वह अपनी दिमागी क्षमता का किस प्रकार इन्वेस्टमेंट करें कि उसकी पूंजी बढ़ती रहे तभी वह एक अमीर व्यक्ति की श्रेणी में उपस्थित होने के लिए सक्षम होगा। जब कोई व्यक्ति नौकरी छोड़ कर स्वयं का व्यापार स्थापित करना चाहता है तो इसका एक कारण है कि वह अपनी गरिमा को वापस प्राप्त करना चाहता है अपने अस्तित्व को नया रूप देना चाहता है कि उस पर किसी का अध

जीवन को समझे,अपने विचारों को उद्देश्य में परिवर्तित करें

जीवन को समझने के लिए आपको पहले अपने आप को समझना होगा तभी आप जीवन को समझ पाएंगे जीवन एक पहेली नुमा है इसे हर कोई नहीं समझ पाता,  लोगों का जीवन चला जाता है और उन्हें यही पता नहीं होता कि हमें करना क्या था हमारा उद्देश्य क्या था हमारे विचार क्या थे हमारे जीवन में क्या परिवर्तन करना था हमारी सोच को कैसे विकसित करना था,  यह सारे बिंदु हैं जो व्यक्ति बिना सोचे ही इस जीवन को व्यतीत करता है और जब आखरी समय आता है तो केवल कुछ व्यक्तियों को ही एहसास होता है कि हमारा जीवन चला गया है कि हमें हमारे जीवन में यह परिवर्तन करने थे,  वही परिवर्तन व्यक्ति अपने बच्चों को रास्ता दिखाने के लिए करता है लेकिन वे परिवर्तन को सही मुकाम तक पहुंचाने में कामयाब हो पाते हैं या नहीं यह तो उनकी आने वाली पीढ़ी को देखकर ही अंदाजा लगाया जा सकता है,  कि उनकी पीढ़ी कहां तक सक्षम हो पाई है और अपने पिता के उद्देश्य को प्राप्त कर पाने में सक्षम हो पाई है या नहीं, व्यक्ति का जीवन इतना स्पीड से जाता है कि उसके सामने प्रकाश का वेग भी धीमा नजर आता है, व्यक्ति अपना अधिकतर समय बिना सोचे समझे व्यतीत करता है उसकी सोच उसके उद्देश्य से

लक्ष्य की स्थिरता क्या आपके जीवन को बदल सकती है ?

सकारात्मक सोच महत्वपूर्ण है, लेकिन यह पर्याप्त नहीं है, अगर दिशा न दी जाए और नियंत्रित न किया जाए, तो सकारात्मक सोच जल्द ही विकृत होकर सिर्फ सकारात्मक इच्छा और सकारात्मक आशा बनकर रह सकती है।  लक्ष्य हासिल करने में एकाग्र और प्रभावी बनने के लिए सकारात्मक सोच को "सकारात्मक जानने" में बदलना होगा, आपको अपने अस्तित्व की गहराई में इस बात पर पूरा यकीन करना होगा कि आप किसी खास लक्ष्य को हासिल करने में जरुर सफल होंगे, आपको अपनी अंतिम सफलता के बारे में दृढ़ विश्वास होना चाहिए कि कोई भी चीज आपको रोक नहीं सकती।  एक महत्वपूर्ण मानसिक नियम है, जो भी छाप छूटती हैं, वह व्यक्त जरूर होती है, आप अपने अवचेतन मन पर जो भी गहरी छाप छोड़ते हैं, वह अंततः आपके बाहरी जगत में अभिव्यक्त होती हैं, मानसिक प्रोग्रामिंग में आपका मकसद आपने अवचेतन मन पर अपने लक्ष्य की गहरी छाप छोड़ना है। मैं कई सालों तक अपने लक्ष्य पर काम करता रहा था, उन्हें साल में एक दो बार लिख लेता था, और मौका मिलने पर उनकी समीक्षा भी कर लेता था, इससे मेरे जीवन में अविश्वसनीय फर्क पड़ा, अक्सर मैं जनवरी में पूरे साल के लक्ष्यों की सूची बनाता