सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कार्ल मार्क्स और उनकी शिक्षा

दिसम्बर, 1864 में कार्ल मार्क्स ने 'प्रथम अंतर्राष्ट्रीय मजदूर सभा' का गठन किया। इसी के माध्यम से उन्होंने शेष विश्व के श्रमिक वर्ग से संगठित होने का आह्वान किया। उनका कहना था कि यदि श्रमिक वर्ग को अपने अधिकार प्राप्त करने हैं तो उन्हें संगठित होना ही होगा। वास्तव में कार्ल मार्क्स मजदूर वर्ग के मसीहा थे। उन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन सामाजिक उत्थान और मजदूर वर्ग को उनका अधिकार दिलाने के लिए समर्पित कर दिया। मार्क्स ने समाजवाद का सिद्धांत तो दिया ही, साथ ही अर्थशास्त्र से सम्बंधित अनेक सिद्धांतों का भी प्रतिपादन किया। सामाजिक और आर्थिक क्षेत्र में दिए गए उनके महत्त्वपूर्ण योगदान को आज 'मार्क्सवाद' के रूप में याद किया जाता है। कार्ल मार्क्स के पिता हर्शल मार्क्स एक वकील थे, जो यहूदी परिवार से सम्बंध रखते थे। हर्शल मार्क्स के पिता और भाई यहूदी समुदाय के पुरोहित थे और उनकी पत्नी हॉलैंड के उस परिवार से सम्बंधित थीं, जहां यहूदियों की पुरोहिताई का कार्य होता था। कार्ल के पिता हर्शल को यहूदियों से नफरत थी, उन पर फ्रांस की महान विभूतियों रूसो और वॉल्टेयर के विचारों का भी गहरा प्र

लक्ष्य के लिए डेडलाइन कैसे तय करें?

व्यवसाय में ज्यादातर काम प्रोजेक्टों से संबंधित होता है। प्रोजेक्ट पूरे करने की योग्यता करियर में आपकी सफलता को काफ़ी हद तक तय करती है। प्रोजेक्ट की परिभाषा है 'बहुल कार्यों वाला काम'। प्रोजेक्ट वह परिणाम है, जिसके लिए कई छोटे कामों की श्रंखला को पूरा करने की ज़रूरत होती है।

अपनी उपलब्धि के स्तर को बहुत ज़्यादा बढ़ाने और अपनी प्रभावकारिता को अधिकतम करने के लिए आप शायद जिस सबसे शक्तिशाली साधन का इस्तेमाल कर सकते हैं, वह है जाँचसूची। जाँचसूची में क़दमों की श्रंखला समय के हिसाब से जमी होती है। इसे आप प्रोजेक्ट पर काम शुरू करने से पहले बनाते हैं।

आप आज जहाँ हैं, वहाँ से सफलतापूर्वक प्रोजेक्ट पूरा करने के लिए आपको कौन से क़दम उठाने हैं, उन्हें स्पष्टता से तय करने की आपकी योग्यता श्रेष्ठ सोच की निशानी है। एक बार फिर नियम यह है कि योजना और जाँचसूची बनाने में लगा एक मिनट क्रियान्वयन और काम करने में लगने वाले दस मिनट बचाता है। यह धीमी सोच का एक और उदाहरण है, जो आपकी प्रभावकारिता और आपके आउटपुट को महत्त्वपूर्ण रूप से बढ़ा सकती है। इससे कंपनी के प्रति आपके मूल्यवान योगदान में भी काफ़ी वृद्धि होती है।

अपने ज़्यादा बड़े कामों और प्रोजेक्टों का चार्ट बनाएँ, ताकि आप और बाक़ी लोग इसे इसकी पूर्णता में देख सकें।

यह तय करें कि आप जो परिणाम चाहते हैं, उनका आनंद लेने के लिए आपको कौन से लक्ष्य और उद्देश्य हासिल करने होंगे। अंत को दिमाग़ में रखकर शुरू करें। पूरी तरह स्पष्ट कर लें कि अगर आपके लक्ष्य उत्कृष्ट अंदाज़ में हासिल हो जाएँ, तो वे कैसे दिखेंगे, फिर भविष्य से वर्तमान तक आएँ। तार्किक क़दमों की क्रमवार सूची बनाएँ, जिन्हें उठाकर आप अपनी वर्तमान जगह से वहाँ तक पहुँच सकते हैं, जहाँ आप पहुँचना चाहते हैं ।

अंतिम लक्ष्य हासिल करने के लिए आपको कितने क़दम उठाने होंगे और हर क़दम को कब तक पूरा करना होगा। इस तकनीक का इस्तेमाल दुनियाभर की सबसे कार्यकुशल व सफल कंपनियाँ व एक्ज़ीक्यूटिव करते हैं।

अपने हर उद्देश्य या लक्ष्य के लिए एक लाइन पूर्णता की आवश्यक तारीख से पीछे की ओर खींचें। इसे कागज़ पर लिख दें, ताकि आप देख सकें कि आपको समय पर काम पूरा करने के लिए काम के हर हिस्से को कब तक करना है |

काग़ज़ पर सोचकर आप घटनाओं पर पूरा नियंत्रण कर लेते हैं। आपके पास दौड़ने के लिए एक ट्रैक होता है। आपके पास कामों की एक श्रंखला होती है, जिसकी जाँच करके आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि वे समय-सीमा में पूरे हो जाएँ और उनकी गुणवत्ता संतोषजनक हो। आप अपने काम और अपने मुख्य प्रोजेक्टों की बागडोर हमेशा सही तरीक़े से थामे रहते हैं।

अगर आपको महीने के अंत तक कोई काम पूरा करना है, तो आप अपनी समय-सीमा पंद्रह या बीस तारीख तय कर सकते हैं, ताकि आपके पास पर्याप्त अतिरिक्त समय रहे, क्योंकि अप्रत्याशित विलंब या समस्याएं खड़ी हो सकती हैं। मर्फी के नियम को हमेशा याद रखें कि "जो भी गलत हो सकता है, वह ग़लत होगा।”

श्रेष्ठ एक्ज़ीक्यूटिव यह मानकर चलता है कि नियत समय-सीमा तक काम पूरा करने में समस्याएँ, बाधाएँ, अप्रत्याशित विलंब और असफलताएँ आएँगी। ये चीजें कारोबारी जीवन का सामान्य और स्वाभाविक हिस्सा हैं। आपका काम प्रोजेक्ट की नब्ज़ पर लगातार अँगुली रखना है और फिर उन समस्याओं को सुलझाना और बाधाओं को हटाना है, जिनका उत्पन्न होना तय है। आप यह देखकर काफी हैरान होंगे कि आप कितना ज्यादा हासिल कर सकते हैं और क़दमों के बीच कितनी कम अड़चनें या बाधाएँ आती हैं।

आप बेहतरीन बातचीत और अच्छे इरादों से जितना हासिल कर पाएँगे, उससे कहीं ज़्यादा प्रोजेक्ट में शामिल हर मुख्य व्यक्ति के लिए स्पष्ट लक्ष्य लिखकर हासिल कर लेंगे। लक्ष्यों को स्पष्ट, निश्चित, मापने योग्य और समय-सीमा वाला बनाएँ। याद रखें, जिसे मापा जाता है, उसे ही किया जाता है। डेडलाइन के बिना लक्ष्य दरअसल लक्ष्य नहीं होता। यह तो सिर्फ विचार-विमर्श होता है।

किसी काम या प्रोजेक्ट की पूर्णता के हर लक्ष्य या उपलब्धि की ज़िम्मेदारी किसी निश्चित व्यक्ति को सौंपें। यह काम कौन करने वाला है? यह काम कब तक पूरा करने की ज़रूरत है और गुणवत्ता का स्तर क्या होगा? हमेशा ये प्रश्न पूछें। इसे पूरी तरह से स्पष्ट कर दें। कभी यह मानकर ना चलें कि कर्मचारियों को यह मालूम है कि आप क्या चाहते हैं।

सन् 2009 में जनरल मोटर्स भारी घाटे और दिवालियेपन का शिकार थी। 2012 में यह 4.9 अरब डॉलर के मुनाफ़े तक पहुँच गई। जीएम के प्रेसिडेंट डैन एकरसन ने कहा कि कंपनी की कायापलट का सबसे महत्त्वपूर्ण हिस्सा हर मुख्य व्यक्ति और संगठन के हर स्तर पर स्पष्ट लक्ष्य तय करना था। 

इस पद पर आने से पहले उन्होंने पाया कि पूरे संगठन में लक्ष्य अस्पष्ट थे, जिनका पालन सुनिश्चित नहीं किया जाता था, इसलिए वे शायद ही कभी हासिल होते थे। स्पष्ट और निश्चित लक्ष्य तय करने के बाद सभी कर्मचारी सटीकता से यह जान गए कि उन्हें अपनी नौकरी सही-सलामत रखने के लिए और आगे बढ़ने के लिए क्या करना है।

याद रखें, आपके पास जो सबसे अद्भुत गुण है, वह आपकी सोचने की योग्यता है, ख़ासतौर पर चीज़ों पर पहले से सोचने की योग्यता। आप कागज़ पर सोचने और योजना बनाने में जितना ज़्यादा समय लगाते हैं, आपको उतने ही बेहतर परिणाम मिलेंगे और उतनी ही जल्दी मिलेंगे।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जीवन को समझे,अपने विचारों को उद्देश्य में परिवर्तित करें

जीवन को समझने के लिए आपको पहले अपने आप को समझना होगा तभी आप जीवन को समझ पाएंगे जीवन एक पहेली नुमा है इसे हर कोई नहीं समझ पाता,  लोगों का जीवन चला जाता है और उन्हें यही पता नहीं होता कि हमें करना क्या था हमारा उद्देश्य क्या था हमारे विचार क्या थे हमारे जीवन में क्या परिवर्तन करना था हमारी सोच को कैसे विकसित करना था,  यह सारे बिंदु हैं जो व्यक्ति बिना सोचे ही इस जीवन को व्यतीत करता है और जब आखरी समय आता है तो केवल कुछ व्यक्तियों को ही एहसास होता है कि हमारा जीवन चला गया है कि हमें हमारे जीवन में यह परिवर्तन करने थे,  वही परिवर्तन व्यक्ति अपने बच्चों को रास्ता दिखाने के लिए करता है लेकिन वे परिवर्तन को सही मुकाम तक पहुंचाने में कामयाब हो पाते हैं या नहीं यह तो उनकी आने वाली पीढ़ी को देखकर ही अंदाजा लगाया जा सकता है,  कि उनकी पीढ़ी कहां तक सक्षम हो पाई है और अपने पिता के उद्देश्य को प्राप्त कर पाने में सक्षम हो पाई है या नहीं, व्यक्ति का जीवन इतना स्पीड से जाता है कि उसके सामने प्रकाश का वेग भी धीमा नजर आता है, व्यक्ति अपना अधिकतर समय बिना सोचे समझे व्यतीत करता है उसकी सोच उसके उद्देश्य से

दौलत मनुष्य की सोचने की क्षमता का परिणाम है

आपका मस्तिष्क असीमित है यह तो आपकी शंकाएं हैं जो आपको सीमित कर रही हैं दौलत किसी मनुष्य की सोचने की क्षमता का परिणाम है इसलिए यदि आप अपना जीवन बदलने को तैयार हैं तो मैं आपका परिचय एक ऐसे माहौल से करवाने जा रहा हूं जो आपके मस्तिष्क को सोचने और आपको ज्यादा अमीर बनाने का अवसर प्रदान करेगा।  अगर आप आगे चलकर अमीर बनना चाहते हैं तो आपको एक ऐसा व्यक्ति होना चाहिए जिसके दरमियान 500 से अधिक व्यक्ति कार्यरत हो ऐसा कह सकते हैं कि वह एक इंडस्ट्रियलिस्ट होना चाहिए या एक इन्वेस्टर होना चाहिए उसको यह मालूम होना चाहिए की इन्वेस्टमेंट कैसे किया जाए। जिस प्रकार व अपनी दिमागी क्षमता का इन्वेस्टमेंट करता है उसी प्रकार उसकी पूंजी बढ़ती है यह उस व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वह अपनी दिमागी क्षमता का किस प्रकार इन्वेस्टमेंट करें कि उसकी पूंजी बढ़ती रहे तभी वह एक अमीर व्यक्ति की श्रेणी में उपस्थित होने के लिए सक्षम होगा। जब कोई व्यक्ति नौकरी छोड़ कर स्वयं का व्यापार स्थापित करना चाहता है तो इसका एक कारण है कि वह अपनी गरिमा को वापस प्राप्त करना चाहता है अपने अस्तित्व को नया रूप देना चाहता है कि उस पर किसी का अध

जीवन में लक्ष्य कैसे प्राप्त करें।

आज के जीवन में अगर आप कुछ बनना चाहते हैं, तो आपको अपने जीवन को एक लक्ष्य के रूप में देखना चाहिए, लक्ष्य आपको वह सब कुछ दे सकता है, जो आप पाना चाहते हैं, आपको सिर्फ एक लक्ष्य तय करना है, और उस लक्ष्य पर कार्य करना है, कि आपको उस लक्ष्य को किस तरह हासिल करना है, इसे हासिल करने की आपको योजना बनानी है, और उस योजना पर आपको हर रोज मेहनत करनी है। किसी भी लक्ष्य को हासिल करने की समय सीमा किसी और पर नहीं केवल आप पर निर्भर करती हैं, कि आप उस लक्ष्य को हासिल करने के लिए क्या कुछ कर सकते हैं, जब आप किसी लक्ष्य को हासिल करने का इरादा बनाते हैं, तो आपको यह पता होना चाहिए कि जिस इरादे को लेकर आप लक्ष्य को हासिल करने वाले हैं, वह इरादा उस समय तक कमजोर नहीं होना चाहिए जब तक कि आपका लक्ष्य पूर्ण न हो जाए। आपने देखा होगा कि लोग लक्ष्य निर्धारित करते हैं, जब उस लक्ष्य पर कार्य करने का समय आता है, तो कुछ समय तक तो उस लक्ष्य पर कार्य करते हैं, लेकिन कुछ समय बाद उनका इरादा कमजोर हो जाता है, वे हताश हो जाते हैं तो आप मान के चल सकते हैं कि वे जिंदगी में कुछ भी हासिल करने के लायक नहीं। इस सृष्टि पर उन्हीं लोग