सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

धन संपत्ति के मामले में आपकी सोच...?

मैंने अपने कॉलेज के वर्ष लॉस एन्जेलस के एक बढ़िया होटल में सेवक के रूप में बिताये। वहाँ एक तकनीकी कार्यकारी अतिथि के रूप में अक्सर आया करता था। वह काफ़ी प्रतिभावान था, उसने लगभग 20 वर्ष से कुछ ही अधिक की आयु में वाई- फ़ाई का एक मुख्य घटक डिज़ाइन कर पेटेंट किया था। वह कई कंपनियां शुरु करके बेच चुका था और बेतहाशा कामयाब था। धन संपत्ति के साथ उसका जो संबंध था, उसे मैं असुरक्षा और बचकानी मूर्खता का मेल कहूँगा। वह सौ डॉलर के नोटों की कई इंच मोटी गड्डी साथ लेकर घूमता था, जिसे वह हर किसी को दिखाता था, फिर चाहे वे देखना चाहते हों या नहीं। वह बिना किसी संदर्भ के अपनी धन सम्पदा की खुलकर डींग मारता, ख़ासकर जब वह नशे में धुत होता। एक दिन उसने मेरे एक सहकर्मी को कई हज़ार डॉलर की रकम दी और कहा, "गली में जो ज़वाहरात की दुकान है, वहाँ जाओ और 1000 डॉलर के कुछ सोने के सिक्के लेकर आओ।" एक घंटे बाद, हाथ में सोने के सिक्के लिये, वह कार्यकारी और उसके दोस्त एक डॉक के चारों तरफ़ इकट्ठा हो गये जो प्रशांत महासागर के सामने था। फिर उन्होंने उन सिक्कों को पानी में फेंकना शुरू कर दिया। वे उन सिक्कों को

उत्कृष्ट श्रोता बनने की कुंजी

लीडर उत्कृष्ट श्रोता होते हैं। किसी लीडर का 50-60 प्रतिशत समय सुनने में लगता है। उत्कृष्ट श्रोता बनने की कुंजी यह है कि सिर्फ़ शब्दों को ही ना सुनें, बल्कि शब्दों के पीछे की बात को भी सुनें। असली संदेश को सुनें और अपना सारा ध्यान बोलने वाले पर केंद्रित करें। 

दूसरों के साथ मुलाक़ातों और चर्चाओं में यह करें :

 1. ध्यानपूर्वक सुनें। अपने दिमाग़ को साफ़ कर लें और सामने वाला जो कह रहा है, उसी पर ध्यान केंद्रित करें। 'इसकी नकल' की कोशिश ना करें, क्योंकि यह पैंतरा कामयाब नहीं होता है। लोग समझ जाते हैं कि आपका दिमाग़ कहीं और भटक रहा है। 

शोधकर्ताओं के अनुसार जब भी कोई बातचीत होती है, तो शब्द किसी संदेश को सिर्फ़ 7 प्रतिशत संप्रेषित कर पाते हैं। आपकी आवाज़ के लहज़े से संदेश 38 प्रतिशत पहुँचता है। संदेश पहुँचाने के मामले में आपकी बॉडी लैंग्वेज सबसे अहम भूमिका निभाती है, क्योंकि यह 55 प्रतिशत संदेश पहुँचाती है।
 
अपने शरीर को सुनने की मुद्रा में रखें और वक्ता की तरफ़ थोड़ा झुकें। आपकी यह मुद्रा वक्ता को स्पष्ट बता देती है कि आप उसकी बात सुन रहे हैं और उसकी बात बीच में ना काटें। अगर आप बोल रहे हैं, तो इसका मतलब यह है कि आप सुन नहीं रहे हैं।

2. जवाब देने से पहले ठहरें। जब सामने वाला बोलना बंद कर दे या बातचीत में विराम आ जाए, तो आप यह सोच सकते हैं कि सामने वाले की बात पूरी हो गई है और आपके मन में बीच में कूदने का प्रलोभन आ सकता है, लेकिन हो सकता है कि सामने वाला अपने विचारों को व्यवस्थित करने के लिए पल भर रुका हो और आगे भी बोलना चाहता हो। अगर आप इस पल बीच में बोलने लगते हैं, तो उसे ऐसा लगेगा जैसे आप अवरोध डाल रहे हैं। 

अगर आप जवाब देने से पहले ठहरते हैं और पल भर की ख़ामोशी रहने देते हैं, तो आप सामने वाले का अर्थ ज़्यादा गहरे स्तर पर सुन सकेंगे। आप दूसरे लोगों की कही बातों को ज़्यादा अच्छी तरह समझेंगे, क्योंकि आप उनके बोलते समय खुद बोलने की ताक में नहीं रहते हैं। अंत में, जब सामने वाले व्यक्ति की बात पूरी हो जाए, तो ठहरने से उसे यह समझ आ जाता है कि आप उसकी बात सचमुच सुन रहे हैं। और जवाब देने से पहले सावधानी से उसकी कही बातों पर विचार कर रहे हैं।

3. प्रश्न पूछ कर स्पष्टीकरण माँगें। सवाल पूछने की तकनीक भी यह साबित करती है कि आप सामने वाले की बात सचमुच सुन रहे थे, सुनने का नाटक नहीं कर रहे थे। इतना ही नहीं, सवाल पूछने से फ़ायदा यह होगा कि आप सामने वाले की कही बातों के बारे में ग़लत मान्यताएँ बनाने या ग़लत निष्कर्ष निकालने से बच जाएँगे। 

अगर आपको पक्का यक़ीन नहीं है, तो यह मानकर ना चलें कि आप समझ गए हैं। इस तरह के प्रश्न पूछकर स्थिति को स्पष्ट कर लें :
“आपका सटीक मतलब क्या है?"
"आप इस बारे में कैसा महसूस करते हैं?"

4. वक्ता की कही बातों को अपने शब्दों में दोहराएँ। इससे ना सिर्फ़ वक्ता को यह पता चल जाएगा कि आपने उसकी बात गौर से सुनी है, बल्कि उसे यह भी पता चल जाएगा कि आप उसकी बात अच्छी तरह समझ गए हैं और अगर आपने कोई चीज़ ग़लत समझ ली है, तो वक्ता के पास उसे सही करने का अवसर होता है।

5. बाधा डाले बिना सुनें। वाटरलू के युद्ध में नेपोलियन ने मार्शल ग्राउची को एक संदेश भेजा, जिसके पास 30,000 सैनिक युद्ध के मैदान से थोड़ी दूर थे। चूँकि नेपोलियन ने अपना संदेश जल्दबाज़ी में भेजा था, इसलिए जो आदेश ग्राउची के पास पहुँचे, वे इतने उलझन भरे थे कि उसे समझ नहीं आया कि क्या करना है, इसलिए उसने कुछ नहीं किया। वह अपने 30,000 सैनिकों के साथ रणभूमि से दूर बैठा रहा, जबकि कुछ पहाड़ियों की दूरी पर वाटरलू में नेपोलियन युद्ध हार गया और यूरोपीय इतिहास की पूरी दिशा ही बदल गई और यह सब इसलिए हुआ, क्योंकि संदेश पर पर्याप्त ध्यान नहीं दिया गया था।

यदि आप लीडर हैं और कोई आपसे बात करना चाहता हो, तो दरवाज़ा बंद कर दें, फ़ोन बंद कर दें और बिना व्यवधान डाले पूरे ध्यान से सुनें। सुनना उन सबसे अच्छे तरीक़ों में से है, जिनसे आप यह पता लगा सकते हैं कि क्या हो रहा है। सुनने के प्रति लापरवाही भरा नज़रिया आपके लिए विनाशकारी हो सकता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

दौलत मनुष्य की सोचने की क्षमता का परिणाम है

आपका मस्तिष्क असीमित है यह तो आपकी शंकाएं हैं जो आपको सीमित कर रही हैं दौलत किसी मनुष्य की सोचने की क्षमता का परिणाम है इसलिए यदि आप अपना जीवन बदलने को तैयार हैं तो मैं आपका परिचय एक ऐसे माहौल से करवाने जा रहा हूं जो आपके मस्तिष्क को सोचने और आपको ज्यादा अमीर बनाने का अवसर प्रदान करेगा।  अगर आप आगे चलकर अमीर बनना चाहते हैं तो आपको एक ऐसा व्यक्ति होना चाहिए जिसके दरमियान 500 से अधिक व्यक्ति कार्यरत हो ऐसा कह सकते हैं कि वह एक इंडस्ट्रियलिस्ट होना चाहिए या एक इन्वेस्टर होना चाहिए उसको यह मालूम होना चाहिए की इन्वेस्टमेंट कैसे किया जाए। जिस प्रकार व अपनी दिमागी क्षमता का इन्वेस्टमेंट करता है उसी प्रकार उसकी पूंजी बढ़ती है यह उस व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वह अपनी दिमागी क्षमता का किस प्रकार इन्वेस्टमेंट करें कि उसकी पूंजी बढ़ती रहे तभी वह एक अमीर व्यक्ति की श्रेणी में उपस्थित होने के लिए सक्षम होगा। जब कोई व्यक्ति नौकरी छोड़ कर स्वयं का व्यापार स्थापित करना चाहता है तो इसका एक कारण है कि वह अपनी गरिमा को वापस प्राप्त करना चाहता है अपने अस्तित्व को नया रूप देना चाहता है कि उस पर किसी का अध

जीवन को समझे,अपने विचारों को उद्देश्य में परिवर्तित करें

जीवन को समझने के लिए आपको पहले अपने आप को समझना होगा तभी आप जीवन को समझ पाएंगे जीवन एक पहेली नुमा है इसे हर कोई नहीं समझ पाता,  लोगों का जीवन चला जाता है और उन्हें यही पता नहीं होता कि हमें करना क्या था हमारा उद्देश्य क्या था हमारे विचार क्या थे हमारे जीवन में क्या परिवर्तन करना था हमारी सोच को कैसे विकसित करना था,  यह सारे बिंदु हैं जो व्यक्ति बिना सोचे ही इस जीवन को व्यतीत करता है और जब आखरी समय आता है तो केवल कुछ व्यक्तियों को ही एहसास होता है कि हमारा जीवन चला गया है कि हमें हमारे जीवन में यह परिवर्तन करने थे,  वही परिवर्तन व्यक्ति अपने बच्चों को रास्ता दिखाने के लिए करता है लेकिन वे परिवर्तन को सही मुकाम तक पहुंचाने में कामयाब हो पाते हैं या नहीं यह तो उनकी आने वाली पीढ़ी को देखकर ही अंदाजा लगाया जा सकता है,  कि उनकी पीढ़ी कहां तक सक्षम हो पाई है और अपने पिता के उद्देश्य को प्राप्त कर पाने में सक्षम हो पाई है या नहीं, व्यक्ति का जीवन इतना स्पीड से जाता है कि उसके सामने प्रकाश का वेग भी धीमा नजर आता है, व्यक्ति अपना अधिकतर समय बिना सोचे समझे व्यतीत करता है उसकी सोच उसके उद्देश्य से

लक्ष्य की स्थिरता क्या आपके जीवन को बदल सकती है ?

सकारात्मक सोच महत्वपूर्ण है, लेकिन यह पर्याप्त नहीं है, अगर दिशा न दी जाए और नियंत्रित न किया जाए, तो सकारात्मक सोच जल्द ही विकृत होकर सिर्फ सकारात्मक इच्छा और सकारात्मक आशा बनकर रह सकती है।  लक्ष्य हासिल करने में एकाग्र और प्रभावी बनने के लिए सकारात्मक सोच को "सकारात्मक जानने" में बदलना होगा, आपको अपने अस्तित्व की गहराई में इस बात पर पूरा यकीन करना होगा कि आप किसी खास लक्ष्य को हासिल करने में जरुर सफल होंगे, आपको अपनी अंतिम सफलता के बारे में दृढ़ विश्वास होना चाहिए कि कोई भी चीज आपको रोक नहीं सकती।  एक महत्वपूर्ण मानसिक नियम है, जो भी छाप छूटती हैं, वह व्यक्त जरूर होती है, आप अपने अवचेतन मन पर जो भी गहरी छाप छोड़ते हैं, वह अंततः आपके बाहरी जगत में अभिव्यक्त होती हैं, मानसिक प्रोग्रामिंग में आपका मकसद आपने अवचेतन मन पर अपने लक्ष्य की गहरी छाप छोड़ना है। मैं कई सालों तक अपने लक्ष्य पर काम करता रहा था, उन्हें साल में एक दो बार लिख लेता था, और मौका मिलने पर उनकी समीक्षा भी कर लेता था, इससे मेरे जीवन में अविश्वसनीय फर्क पड़ा, अक्सर मैं जनवरी में पूरे साल के लक्ष्यों की सूची बनाता