सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

कार्ल मार्क्स और उनकी शिक्षा

दिसम्बर, 1864 में कार्ल मार्क्स ने 'प्रथम अंतर्राष्ट्रीय मजदूर सभा' का गठन किया। इसी के माध्यम से उन्होंने शेष विश्व के श्रमिक वर्ग से संगठित होने का आह्वान किया। उनका कहना था कि यदि श्रमिक वर्ग को अपने अधिकार प्राप्त करने हैं तो उन्हें संगठित होना ही होगा। वास्तव में कार्ल मार्क्स मजदूर वर्ग के मसीहा थे। उन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन सामाजिक उत्थान और मजदूर वर्ग को उनका अधिकार दिलाने के लिए समर्पित कर दिया। मार्क्स ने समाजवाद का सिद्धांत तो दिया ही, साथ ही अर्थशास्त्र से सम्बंधित अनेक सिद्धांतों का भी प्रतिपादन किया। सामाजिक और आर्थिक क्षेत्र में दिए गए उनके महत्त्वपूर्ण योगदान को आज 'मार्क्सवाद' के रूप में याद किया जाता है। कार्ल मार्क्स के पिता हर्शल मार्क्स एक वकील थे, जो यहूदी परिवार से सम्बंध रखते थे। हर्शल मार्क्स के पिता और भाई यहूदी समुदाय के पुरोहित थे और उनकी पत्नी हॉलैंड के उस परिवार से सम्बंधित थीं, जहां यहूदियों की पुरोहिताई का कार्य होता था। कार्ल के पिता हर्शल को यहूदियों से नफरत थी, उन पर फ्रांस की महान विभूतियों रूसो और वॉल्टेयर के विचारों का भी गहरा प्र

लक्ष्य को हासिल करने के लिए हमें क्या सीखना है

किसी भी लक्ष्य को हासिल करने के लिए आप, हर वो बात सीख सकते हैं, जो आपको सीखनी चाहिए। आम भाषा में बात की जाए तो, कोई आपसे ज़्यादा समझदार नहीं है और कोई आपसे बेहतर नहीं है। 

कोई आपसे बेहतर स्थिति में है इसका यह मतलब नहीं है कि वह आपसे बेहतर है। इसका मतलब केवल इतना ही है कि आपके क्षेत्र में कामयाब होने के लिए ज़रूरी गुर उसने आपसे पहले जान लिए हैं। जो किसी और ने किया है, वो तो आप कर ही सकते हैं। इसकी कोई सीमा नहीं है। 

जब मैं किसी नए काम से जुड़ा तो मैंने उस काम से जुड़ी हर बात को सीखकर जल्द से जल्द लागू करने की कोशिश की। मैंने सीखने की कला को अपना लिया। मुझे लगा कि मैं उन लोगों में से था जिनको कि यह बात काफ़ी देर से पता चली कि भविष्य को सँवारने के लिए सीखना ज़रूरी है।

मैंने हर उस व्यक्ति को, जो सुनना चाहता था, बताया कि वे अपने द्वारा तय किसी भी लक्ष्य को हासिल करने के लिए ज़रूरी कोई भी काम सीख सकते हैं। 

मनोवैज्ञानिकों और विद्वानों ने कामयाबी और नाकामी के मनोविज्ञान के अध्ययन में बरसों लगाए हैं। और अधिकांश अध्ययनों का यही निष्कर्ष है कि किसी को भी आगे बढ़ने से रोकने वाली दो बड़ी मनोवैज्ञानिक बाधाएँ हैं। 
पहली है, “सीखी हुई लाचारी।”
दूसरी बड़ी बाधा है, "अनिश्चितता की सुखद स्थिति।"

बचपन के कुछ अनुभवों के कारण, ख़ासतौर पर नकारात्मक आलोचना और शुरुआती नाकामियों के अनुभव के कारण, लोग ऐसी स्थिति में पहुँच जाते हैं, जहाँ पर वो खुद को किसी भी परिस्थिति में क़दम उठाने या उसे बदल पाने में नाकाम महसूस करने लगते हैं।

उन्होंने पहले ही नाकामी के साथ इतनी बार प्रयास कर लिए हैं कि वे ऐसे निष्कर्ष पर पहुँच गए हैं कि वे भविष्य को बदलने के लिए कुछ नहीं कर सकते। वे परिस्थितियों को उदासीन होकर स्वीकार लेते हैं। उनकी ज़िंदगी का मतलब सुबह उठना, काम पर जाना, लोगों से मिलना-जुलना, घर लौटना, रात का खाना खाना, चार-पाँच घंटे टीवी देखना और सो जाना ही होता है।

लोगों को तरक्क़ी से रोकने वाली दूसरी बड़ी बाधा है, “निश्चितता की सुखद स्थिति।” इंसान आदतों के गुलाम होते हैं। वे परिस्थिति को, किसी भी कारण से बदलने को लेकर डरपोक से हो जाते हैं। आख़िरकार वे किसी भी बदलाव या अपनी ज़िंदगी को बेहतर बनाने की उम्मीद ही छोड़ देते हैं।

सीखी हुई लाचारी के साथ जब निश्चितता के आलस्य भरे सुख की स्थिति का मेल होता है, तो आदमी खुद को फँसा हुआ और लाचार, कमज़ोर और शक्तिहीन, काम या परिस्थिति पर नियंत्रण या अपनी ज़िंदगी में किसी भी क़िस्म के बदलाव के लिए असहाय महसूस करने लगता है। ऐसी मानसिक अवस्था में हर व्यक्ति फिर मौक़ों की बजाय सुरक्षा को तलाशता है और अधिकांशतया खुद को परिस्थितियों का ऐसा गुलाम जान लेता है, जिसका हालात पर कोई भी नियंत्रण नहीं है।

हक़ीक़त यह है कि आप अपनी ज़िंदगी में कितना कुछ हासिल कर सकते हैं, इसकी कोई सीमा ही नहीं है। प्रकृति आपको बिना क्षमता या प्रतिभा के किसी चीज़ को पाने की आकांक्षा नहीं देती। 

लाचारी और सुखद स्थिति को महसूस करने पर मजबूर करने वाले दो सबसे बड़े कारण हैं भय और अनभिज्ञता । भय हमेशा से ही हमारा सबसे बड़ा शत्रु रहा है। किसी भी अन्य बात की तुलना में, भय और आत्मशंका ही आपको बड़े-बड़े सपने देखने और बड़ी उपलब्धियाँ हासिल करने से रोकते हैं।

देखने में आता है कि किसी विषय के बारे में आप जितना कम जानते हैं, आप उस क्षेत्र में कुछ भी नया या अलग करने से उतने ही ज्यादा घबराते हैं। 

आपकी अनभिज्ञता ही आपको आज की स्थिति से बेहतर कुछ करने में हिचकिचाने पर मजबूर करती है। भय और अनभिज्ञता, एक-दूसरे के सहायक हैं और तब तक बढ़ते हैं जहाँ कि यह आपके दिमाग़ को कुंद कर देते हैं और फिर आप अंततः अपनी क़ाबिलियत की तुलना में कम हासिल करते हैं और नाकाम होते हैं।

किसी भी विषय के बारे में आक्रामकता के साथ सीखने से आपका डर धीरे-धीरे कम होता जाता है। जैसे ही आपकी जानकारी और कौशल में इज़ाफ़ा होता है, आप जल्द एक ऐसे स्तर पर पहुँच जाते हैं, जहाँ आप क़दम उठाकर परिवर्तन लाने के लिए तैयार हो जाते हैं। जैसे-जैसे आपकी जानकारी बढ़ती है, लक्ष्य को हक़ीक़त मानकर उसकी ओर ज़रूरी क़दम बढ़ाने का आत्मविश्वास भी आपमें आ जाता है।

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

जीवन को समझे,अपने विचारों को उद्देश्य में परिवर्तित करें

जीवन को समझने के लिए आपको पहले अपने आप को समझना होगा तभी आप जीवन को समझ पाएंगे जीवन एक पहेली नुमा है इसे हर कोई नहीं समझ पाता,  लोगों का जीवन चला जाता है और उन्हें यही पता नहीं होता कि हमें करना क्या था हमारा उद्देश्य क्या था हमारे विचार क्या थे हमारे जीवन में क्या परिवर्तन करना था हमारी सोच को कैसे विकसित करना था,  यह सारे बिंदु हैं जो व्यक्ति बिना सोचे ही इस जीवन को व्यतीत करता है और जब आखरी समय आता है तो केवल कुछ व्यक्तियों को ही एहसास होता है कि हमारा जीवन चला गया है कि हमें हमारे जीवन में यह परिवर्तन करने थे,  वही परिवर्तन व्यक्ति अपने बच्चों को रास्ता दिखाने के लिए करता है लेकिन वे परिवर्तन को सही मुकाम तक पहुंचाने में कामयाब हो पाते हैं या नहीं यह तो उनकी आने वाली पीढ़ी को देखकर ही अंदाजा लगाया जा सकता है,  कि उनकी पीढ़ी कहां तक सक्षम हो पाई है और अपने पिता के उद्देश्य को प्राप्त कर पाने में सक्षम हो पाई है या नहीं, व्यक्ति का जीवन इतना स्पीड से जाता है कि उसके सामने प्रकाश का वेग भी धीमा नजर आता है, व्यक्ति अपना अधिकतर समय बिना सोचे समझे व्यतीत करता है उसकी सोच उसके उद्देश्य से

दौलत मनुष्य की सोचने की क्षमता का परिणाम है

आपका मस्तिष्क असीमित है यह तो आपकी शंकाएं हैं जो आपको सीमित कर रही हैं दौलत किसी मनुष्य की सोचने की क्षमता का परिणाम है इसलिए यदि आप अपना जीवन बदलने को तैयार हैं तो मैं आपका परिचय एक ऐसे माहौल से करवाने जा रहा हूं जो आपके मस्तिष्क को सोचने और आपको ज्यादा अमीर बनाने का अवसर प्रदान करेगा।  अगर आप आगे चलकर अमीर बनना चाहते हैं तो आपको एक ऐसा व्यक्ति होना चाहिए जिसके दरमियान 500 से अधिक व्यक्ति कार्यरत हो ऐसा कह सकते हैं कि वह एक इंडस्ट्रियलिस्ट होना चाहिए या एक इन्वेस्टर होना चाहिए उसको यह मालूम होना चाहिए की इन्वेस्टमेंट कैसे किया जाए। जिस प्रकार व अपनी दिमागी क्षमता का इन्वेस्टमेंट करता है उसी प्रकार उसकी पूंजी बढ़ती है यह उस व्यक्ति पर निर्भर करता है कि वह अपनी दिमागी क्षमता का किस प्रकार इन्वेस्टमेंट करें कि उसकी पूंजी बढ़ती रहे तभी वह एक अमीर व्यक्ति की श्रेणी में उपस्थित होने के लिए सक्षम होगा। जब कोई व्यक्ति नौकरी छोड़ कर स्वयं का व्यापार स्थापित करना चाहता है तो इसका एक कारण है कि वह अपनी गरिमा को वापस प्राप्त करना चाहता है अपने अस्तित्व को नया रूप देना चाहता है कि उस पर किसी का अध

जीवन में लक्ष्य कैसे प्राप्त करें।

आज के जीवन में अगर आप कुछ बनना चाहते हैं, तो आपको अपने जीवन को एक लक्ष्य के रूप में देखना चाहिए, लक्ष्य आपको वह सब कुछ दे सकता है, जो आप पाना चाहते हैं, आपको सिर्फ एक लक्ष्य तय करना है, और उस लक्ष्य पर कार्य करना है, कि आपको उस लक्ष्य को किस तरह हासिल करना है, इसे हासिल करने की आपको योजना बनानी है, और उस योजना पर आपको हर रोज मेहनत करनी है। किसी भी लक्ष्य को हासिल करने की समय सीमा किसी और पर नहीं केवल आप पर निर्भर करती हैं, कि आप उस लक्ष्य को हासिल करने के लिए क्या कुछ कर सकते हैं, जब आप किसी लक्ष्य को हासिल करने का इरादा बनाते हैं, तो आपको यह पता होना चाहिए कि जिस इरादे को लेकर आप लक्ष्य को हासिल करने वाले हैं, वह इरादा उस समय तक कमजोर नहीं होना चाहिए जब तक कि आपका लक्ष्य पूर्ण न हो जाए। आपने देखा होगा कि लोग लक्ष्य निर्धारित करते हैं, जब उस लक्ष्य पर कार्य करने का समय आता है, तो कुछ समय तक तो उस लक्ष्य पर कार्य करते हैं, लेकिन कुछ समय बाद उनका इरादा कमजोर हो जाता है, वे हताश हो जाते हैं तो आप मान के चल सकते हैं कि वे जिंदगी में कुछ भी हासिल करने के लायक नहीं। इस सृष्टि पर उन्हीं लोग